दैनिक भास्कर हिंदी: पुलिस के हाथ लगा नक्सलियों का मैप प्लान, बालाघाट के जंगलों में ले रहे शरण

May 22nd, 2018

डिजिटल डेस्क बालाघाट। पुलिस के हाथ लगे नक्सलियों के मैप प्लान के अनुसार सुरक्षा बलों के बढ़ते दबाव से बचने के लिए नक्सली अब वैकल्पिक आश्रय स्थल विकसित करने में जुट गए हैं। नक्सली संगठनों ने अपनी इस योजना पर 2008 से काम करना शुरू कर दिया है, जबकि पुलिस को अब जाकर इसकी भनक लगी है। इसी योजना के तहत नक्सलियों ने मप्र के बालाघाट के जंगलों में अड्डा बना लिया है। 

दबाव बढा तो पड़ोसी जिलों का किया रुख
पुलिस अधीक्षक जयदेवन ए ने बताया कि पुलिस को नक्सलियों के गोरिल्ला वार की इस रणनीति का पता, उनके मिले एक्शन मैप से चला है। आंघ्र और तेलंगाना से प्रेशर के बाद वहां के नक्सली बस्तर पहुंचे, जब यहां सुरक्षा बलों का दबाव बढ़ा तो पड़ोसी जिलों की ओर रुख किया। उनके द्वारा विगत कुछ सालों में पूरा एक्शन प्लान तैयार किया गया है। स्लीपर सेल के माध्यम से वह अपनी रणनीति को सफल करने में जुटे हुए है। जिसके लिए सेंट्रल कमेटी सदस्यों के दिशा निर्देश पर यह स्लीपर सेल जिले में अपनी  का मजबूत करने में जुटा हुआ है। बालाघाट पुलिस के अनुसार विस्तार दलम के केन्द्रीय सदस्य मिलिंद तेंदुबेड़े, झीरम घाटी हमले का मास्टरमाईंड सुरेन्द्र और दीपक समय-समय पर यहां लोगों को गाइड कर रहे है।

बालाघाट के जंगलों में जमाया अड्डा
नक्सलियों का यह पूरा नेटवर्क दंडकारण्य क्षेत्र में है जिसमें बालाघाट भी शामिल है। खासकर बालाघाट के गढ़ी और कान्हा क्षेत्र में इनका ज्यादा असर है। पुलिस के पास नक्सलियों द्वारा बस्तर से लगभग 150 नये सदस्यों को शामिल किये जाने की जानकारी है, जिससे पुलिस का अंदाजा है कि भविष्य में जिले में नक्सलियों की संख्या तेजी से बढ़ सकती है। पुलिस का कहना है कि इनको रोकने के लिए ऑपरेशन, फोर्स की तैनाती के साथ ही सुरक्षा बलों के ग्रुप को नई रणनीति के साथ तैनात करने एवं  इन्हें रोकने के लिए वनविभाग से हाई लेबल की बैठक भी हो चुकी है। साथ ही पुलिस प्रशासनिक तौर से  नक्सल इफेक्टेड क्षेत्र में योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन पर भी जोर देकर नक्सलियों की रणनीति को तोडऩे का प्रयास कर रही है। बालाघाट जिले के दंडकारण्य क्षेत्र में नक्सलियों की आमद और इनकी बढ़ती संख्या के साथ विस्तारदलम के नाम से विगत 2008 से नक्सलियों द्वारा अपनाई जा रही रणनीति का खुलासा नवागत पुलिस अधीक्षक जयदेवन ए ने किया।