दैनिक भास्कर हिंदी: ट्रेनों में लूट करने वाले 11 आरोपी हथियार सहित गिरफ्तार, रकम मिली केवल 1.30 लाख

August 21st, 2018

डिजिटल डेस्क, कटनी। ट्रेनों में लूट चोरी की वारदातों में शामिल शातिर गैंग के 11 सदस्यों को जीआरपी ने गिरफ्तार किया है। बीते शुक्रवार दोपहर लगभग तीन बजे मुख्य रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म क्रमांक 3 पर इसी गिरोह सदस्यों ने डीएमयू ट्रेन में हीरेंद्र चौबे पिता स्व. मोहनलाल चौबे का ट्राली बैग काटकर तीन लाख उड़ा दिए थे। पकड़े गए आरोपियों के कब्जे से जीआरपी ने एक लाख 30 हजार रुपए जब्त किए है।

सूत्रों के अनुसार वारदात को अंजाम देने के दूसरे ही दिन आधे से ज्यादा आरोपी पकड़े जा चुके थे। आरोपियों के कब्जे से कट्टा, रिवाल्वर एवं धारदार हथियार भी बरामद हुए हैं। इस कार्रवाई के बाद भी जीआरपी को संदेह की नजर से देखा जा रहा है। घटना के समय 9 आरोपियों के होने की बात सामने आई थी और जीआरपी ने 11 को पकड़ा, लेकिन लूट की रकम आधी भी नहीं बरामद हो पाई। आरोपियों ने स्वीकार किया वे कटनी, दमोह, जबलपुर, सतना, बिलासपुर रूट की ट्रेनों में रेकी कर यात्री को अपना निशाना बनाते थे।

विलायतकला में किराए के कमरे में रहते थे
इस संबंध में जीआरपी प्रभारी डीपी चिढ़ार के अनुसार डीएमयू ट्रेन में वारदात के साथ ही इन आरोपियों द्वारा विलायतकला, बड़वारा में रवि रजक के मकान में कमरे किराये पर लिए गए थे। मकान मालिक को रेलवे में मजदूर होने की जानकारी दी गई थी। पकड़े गए आरोपी जाकिर हुसैन उर्फ छग्गू पिता साबिर हुसैन उम्र 31 साल से एक देशी कट्टा सिक्स राउंड, एक जिंदा कारतूस, बाबू अहमद पिता साबिर हुसैन उम्र 28 साल से लोहे का धारदार चाकू, राशिद अली पिता तसलीम अली उम्र 25, मुमताज पिता मुन्ने मुसलमान उम्र 25 साल भोजपुर मुरादाबाद, मोहम्मद इरशाद पिता अकबर अली उम्र 24 साल निवासी नत्था नगला, फईम पिता सकील उम्र 18 साल, बबुआ पिता भूरा शेख उम्र 40 साल जाने आलम पिता साफियामन मुसलमान उम्र 25 साल, मो. मान पिता मो. जान उम्र 40 साल, रवि रजक पिता रामदुलारे रजक उम्र 22 साल सभी निवासी मुरादाबादा एवं उनके स्थानीय साथी रवि रजक पिता रामदुलारे रजक उम्र 22 साल निवासी विलायतकला बड़वारा एवं कृष्णकांत रजक पिता सुदामा प्रसाद रजक उम्र 26 साल निवासी छिंदियाटोला मोहल्ला बरही को गिरफ्तार किया है।

आधा दर्जन आधा दर्जन वारदातें स्वीकारी
आरोपियों ने पुलिस के समक्ष एक वर्ष में आधा दर्जन वारदातों को अंजाम देने की बात स्वीकारी है। इनके पास से जीआरपी पूरी रकम भी बरामद नहीं कर पाई। सोने-चांदी के जेवरात वे मुरादाबाद में बेचते थे। इनके बताये अनुसार मुरादाबाद पुलिस से भी संपर्क किया जा रहा है।