comScore

हेडमास्टर ने  बेच दिया स्कूल का  भवन, ग्राम पंचायत कराना चाहती थी नीलाम

हेडमास्टर ने  बेच दिया स्कूल का  भवन, ग्राम पंचायत कराना चाहती थी नीलाम

डिजिटल डेस्क बालाघाट।  विकासखंड कटंगी के तिरोडी संकुल अंतर्गत आने वाले जनपद प्राथमिक शाला कोयलारी के जीर्ण-शीर्ण भवन को हेडमास्टर कमलाप्रसाद दुबे ने नियम विरुध्द 70 हजार रुपए में  भीमराव बाम्बोर्डे नामक व्यक्ति को बेच दिए जाने का आरोप पंचायत प्रतिनिधियों ने लगाया है। संकुल प्राचार्य ने बताया कि हेडमास्टर ने  किसी तरह की अनुमति नहीं ली। हैरानी की बात तो यह है कि जीर्ण-शीर्ण इमारत को बेचने या नीलाम करने का अधिकार भी उनके पास नहीं है।

भवन जमींदोज कर सामग्री नीलाम करने पंचायत ने की थी कार्रवाई
वहीं दूसरी तरफ ग्राम पंचायत ने स्कूली विद्यार्थियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उक्त जीर्ण-शीर्ण स्कूल भवन को ध्वस्त कर सामग्री नीलाम करने की विधिवत कार्रवाई की थी, जिसकी मंजूरी भी मिल गई थी, लेकिन प्रधानपाठक ने इससे पहले ही भवन को बेच दिया। प्रधानपाठक की इस नियम विपरीत कार्रवाई से ग्राम पंचायत के सरपंच पंच तथा ग्रामीण नाराज है। 


सरपंच ने की शिकायत

मामले में सरपंच विजय सोनवाने ने विकासखंड स्रोत समन्वयक तथा संकुल प्राचार्य से शिकायत कर कार्रवाई की मांग की है। ग्राम पंचायत कोयलारी के सरपंच ने बताया कि ग्राम पंचायत में संचालित होने वाले किसी भी सरकारी स्कूल कार्यालय की देख-रेख की जवाबदेही पंचायत की होती।

ग्राम सभा में पास हुआ था प्रस्ताव

उन्होनें बताया कि ग्राम पंचायत ने विगत माह ग्राम सभा में एक प्रस्ताव पास कर इस भवन के नीलामी की कार्रवाई की थी, परंतु प्रधानपाठक ने लालच में आकर भवन को बेच दिया। पंचायत ने शिक्षक के खिलाफ  कार्रवाई करने की मांग की है। 

मुझे इस संबंध में जानकारी नही है, लेकिन ऐसा मामला है तो इस संबंध में बीआरसी को निर्देशित कर तत्काल मौके पर जाकर वस्तुस्थिति का जायजा लेकर मुझे अवगत कराए यदि ऐसा कुछ हुआ है तो प्रधान पाठक के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी। 
- पीके अंगूरे, जिला परियोजना समन्वयक 

इस सम्बंध में हमे शिकायत प्राप्त हुई है। हमने दो दिन का समय मांगा है। इसकी जाँच कराई जायेगी और शिकायत सही होने पर दोषी के खिलाफ  उचित कार्यवाही की जाएगी। 
- दर्पण गौतम, बीआरसी 

प्रधानपाठक द्वारा जर्जर स्कूल भवन को बेचे जाने की शिकायत प्राप्त हुई है। प्रधान पाठक द्वारा भवन के डिस्मेंटल को लेकर कोई सूचना नही दी गई है। जबकि विधिवत प्रस्ताव बनाकर भवन का डिस्मेंटल किया जाना था।
- टीपी घोडेश्वर, संकुल प्राचार्य

कमेंट करें
97SEx