दैनिक भास्कर हिंदी: मानव तस्करी गिरोह का भंडाफोड़, अंतर्राज्यीय गैंग के 7 सदस्य गिरफ्तार

May 18th, 2019

डिजिटल डेस्क, बालाघाट। कोतवाली पुलिस को मानव तस्करी मामले में बड़ी सफलता मिली है। पुलिस ने मानव तस्करी के मामले से जुड़े 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। अंतर्राज्यीय गिरोह में बालाघाट सहित महाराष्ट्र के लोग शामिल थे। नगर पुलिस अधीक्षक देवेंद्र यादव ने घटना से जुड़ी जानकारी देते हुए बताया कि इस मामले में फरार 2 महिला आरोपियों की पुलिस तलाश कर रही। बताया जाता है कि नाबालिग का अपहरण कर उसकी जबरदस्ती शादी कर उसे बेच दिया गया था। जब नाबालिग दस्तयाब हुई, उसके बाद पुलिस ने मानव तस्करी का बड़ा मामला पकड़ा है।

बहला फुसलाकर ले गए थे युवती को-
इस संबंध में पुलिस ने बताया कि गुमशुदा युवती को आरोपी महिला संगीता के चाचा की लड़की थी, जिसे उसने बहला फुसलाकर अपने साथ लेकर गई थी। जिसके बाद उसने अपने साथियों के साथ मिलकर युवती को महाराष्ट्र के जलगांव क्षेत्र के एक शख्स को डेढ़ लाख रुपए में बेच दिया और उसके बाद उसकी जबरदस्ती उससे शादी करा दी। इधर कोतवाली पुलिस, युवती की गुमशुदगी के बाद उसकी तलाश कर रही थी। इस दौरान ही पुलिस ने युवती को दस्तयाब किया। जिसके बयान के बाद पुलिस ने मानव तस्करी का एक बड़ा खुलासा किया है। नगर पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र यादव की मानें तो मानव तस्करी मामले में पकड़ाया गया गैंग, युवतियों को बहला फुसलाकर उन्हें बेचने का काम करता था। मानव तस्करी में लिप्त गैंग के तीन साथियों को पुलिस ने 3 दिन की रिमांड पर लिया है। जिनसे पूछताछ में पुलिस को और भी कई जानकारियां मिलने की संभावना है।

युवती के बयान ने खोला मानव तस्करी का राज-
कोतवाली थाना में युवती की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज थी, जिसकी दस्तयाबी के लिए पुलिस लगातार प्रयासरत थी। मानव तस्करी से जुड़े इस मामले को लेकर वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में कोतवाली पुलिस ने टीम गठित की और मामले की जानकारी मिलने के 48 घंटे के भीतर मानव तस्करी से जुड़े 7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

इनको किया गिरफ्तार-
पुलिस ने पीड़ित युवती के बयान के बाद आरोपियो के खिलाफ धारा 365, 368, 370 (1), 370क(2), 376(2)एन, 34, 120 बी भादवि, अनैतिक व्यापार अधिनियम 1956 की धारा 3,5 एवं एससी, एसटी एक्ट की धारा 3(2)वी, 3(1)डब्ल्यु(आई) के तहत लामता थाना अंतर्गत सुरिया निवासी 25 वर्षीय संगीता पिता प्रेमलाल इनवाती, गोंदिया सेलटेक्स कॉलोनी आईटीआई के सामने फुलचुर निवासी 38 वर्षीय बेबी सिडाम पति सुनील सिडाम, महाराष्ट्र तिरोड़ा थाना अंतर्गत बेरडीपार निवासी 47 वर्षीय जयदेव अगासे पिता भैयालाल अगासे जलगांव के थाना चौपडा अंतर्गत अडावती निवासी 21 वर्षीय अजय पिता रूपचंद वाघ, रामपायली थाना अंतर्गत डोंगरगांव निवासी 45 वर्षीय प्रदीप पिता सूरजलाल हनवत, जलगांव निवासी 42 वर्षीय विजय उर्फ बिज्जु पिता लोटन बिसावे और 44 वर्षीय रूपचंद पिता लक्ष्मण बाघ को गिरफ्तार किया है। जिसमें पुलिस ने बेडी सिडाम, प्रदीप हनवत और जयदेव अगासे को 3 दिन की पुलिस रिमांड में लिया है। 

इनकी रही सराहनीय भूमिका-
मानव तस्करी से जुड़े मामले में दो महिला आरोपी फरार है, जिनकी पुलिस तलाश कर रही है। मानव तस्करी से जुड़े मामले का खुलासा और आरोपियो को गिरफ्तार करने में नगर पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र यादव, कोतवाली थाना प्रभारी महेन्द्रसिंग ठाकुर, उपनिरीक्षक मनोजसिंह जादौन, उपनिरीक्षक राहुल रायकवार, एएसआई कमलेश तिवारी, मंगला अहिंगारे, प्रधान आरक्षक दिनेश पंचेश्वर, राजेश्वर राहंगडाले, अनिल बिसेन, महिला प्रधान आरक्षक सत्यशीला वासनिक, आरक्षक नरेन्द्र सोनवे, शैलेष गौतम, गजेन्द्र माटे, रीना नगपुरे और राधा बघेल की भूमिका सराहनीय रही।

इनका कहना है
7 आरोपियों को गिरफ्तार किया है, जिसमें दो महिलाओं की और गिरफ्तारी होना है। मामले में पकड़ाए गए आरोपियों में तीन आरोपियों को 3 दिन की रिमांड पर लिया है, जिनसे पूछताछ में और मामले की जानकारी मिलने की संभावना है।
देवेन्द्र यादव, सीएसपी