comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

सतपड़ा टायगर रिजर्व की शोभा बढ़ाएगें कान्हा के बारासिंघा - 12 को कैप्चर कर किया गया रवाना

सतपड़ा टायगर रिजर्व की शोभा बढ़ाएगें कान्हा के बारासिंघा - 12 को कैप्चर कर किया गया रवाना

डिजिटल डेस्क बालाघाट । गुरूवार को कान्हा परिक्षेत्र स्थित बारासिंघा बाड़े से 12 बारासिंघा 2 नर एवं 10 मादा को केप्चर किया जाकर सतपुड़ा टायगर रिजर्व रवाना किया गया। विभागीय  जानकारी के अनुसार इस पूरे केप्चर प्रक्रिया का नेतृत्व सुनील कुमार सिंह क्षेत्र संचालक, कान्हा टायगर रिजर्व द्वारा किया गया।
कैप्चर आपरेशन में ये रहे शामिल
कैप्चर आपरेशन के दौरान रवीन्द्र मणि त्रिपाठी, उप संचालक कोर, डॉ. संदीप अग्रवाल एवं डॉ. गुरूदत्त शर्मा, वन्यप्राणी चिकित्सक, कान्हा एवं सतपुड़ा टायगर रिजर्व सुधीर कुमार मिश्रा, पार्क अधीक्षक, सुनील कुमार सिन्हा, सहायक संचालक सिझौरा एवं कान्हा टायगर रिजर्व के अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा भाग लिया गया। राज्य पशु बारासिंघा के सतपुड़ा टायगर रिजर्व में ट्रांसलोकेशन हेतु भारत सरकार एवं मध्यप्रदेश शासन द्वारा अनुमति दी गई थी। 
विशेषज्ञ रहे मौजूद
बुधवार को अधिकारियों एवं कर्मचारियों तथा विषय विशेषज्ञों द्वारा बारासिंघा केप्चर हेतु विशेष रूप से निर्मित बोमा का निरीक्षण किया गया एवं बारासिंघा केप्चर की रणनीति तैयार की गई। गुरूवार 25 फरवरी को प्रात: 8 बजे से केप्चर प्रक्रिया प्रारंभ कर दी गई। दोपहर लगभग 11:00 बजे बारासिंघा केप्चर की प्रक्रिया पूर्ण की गई एवं बारासिंघा को विशेष रूप से निर्मित परिवहन ट्रक में सतपुड़ा टायगर रिजर्व की ओर वन्यप्राणी चिकित्सक, कान्हा एवं सतपुड़ा टायगर रिजर्व की देखरेख में रवाना किया गया। प्रदेश में इनकी संख्या बढ़ाने के उद्वेश्य से पिछले कुछ वर्षों में वन विहार राष्ट्रीय उद्यान, भोपाल में 7 एवं सतपुड़ा टायगर रिजर्व में 46 मध्य भारतीय हार्ड ग्राउण्ड बारासिंघा को सफलतापूर्वक स्थानांतरण किया जा चुका है। कान्हा में सत्तर के दशक में मार्तृ 66 बचे थे। कान्हा प्रबंधन द्वारा बेहतर संरक्षण के चलते अब कान्हा में इनकी संख्या लगभग 850 तक हो गयी है।
 
 

कमेंट करें
xk7LC