दैनिक भास्कर हिंदी:  रेल यात्रियों की सुरक्षा में हद दर्जे की लापरवाही, हर कदम पर खतरा

May 8th, 2019

डिजिटल डेस्क, कटनी। पश्चिम मध्य रेलवे क्षेत्र के कटनी मुख्य जंक्शन स्टेशन में रोजाना दस हजार रेल यात्रियों की सुरक्षा में जमकर लापरवाही बरती जा रही है। सोमवार को चलती ट्रेन में मां-बेटी पर एसिड अटैक के बाद जब मंगलवार को दैनिक भास्कर की टीम ने रेलवे स्टेशन और ट्रेन में ज्वलनशील पदार्थ को लेकर रियल्टी चेक किया तो चेकिंग में बड़ी चूक सामने आई। पांच लीटर के डिब्बे में पेट्रोलियम पदार्थ जैसा दिखने वाला तरल पदार्थ लेकर दैनिक भास्कर के रिपोर्टर यहां पर दोपहर 12 बजकर 10 मिनट से 1 बजे तक घूमते रहे। इस दौरान इस तरल पदार्थ को लेकर स्टेशन के कई जगहों पर पहुंंचे, लेकिन 50 मिनट के अंतराल में एक बार भी प्लेटफार्म के अंदर सुरक्षा कर्मी दोनों रिपोर्टर को नहीं टकराए।

बनावटी पेट्रोलियम पदार्थ के लिए केन में पानी के साथ रंग मिलाया गया था। स्टेशन में प्रवेश के लिए दो मुख्य द्वार हैं। इसके साथ ही प्लेटफार्म क्रमांक -2 में फूड प्लाजा बगल में एक लीज गेट तथा पार्सल आवक-जावक कार्यालय में एक द्वार है। इसी तरह से प्लेटफार्म क्रमांक पांच में दो अधिकृत प्रवेश द्वार हैं।

मुख्य द्वार का- समय 12.10
सामने मुख्य द्वार से पेट्रोलियम पदार्थ जैसा दिखने वाला तरल पदार्थ लेकर सांवददाता स्टेशन के अंदर प्रवेश किया। इस दौरान यहां पर कोई सुरक्षाकर्मी मौजूद नहीं रहा। संदिग्ध दिखने के लिए सवांददाता ने मुंह में नकाब भी लगाया था, वहीं एक हाथ में केन लेकर आराम से यात्रियों के बीच होते हुए अंदर की तरफ पहुंच गया। प्लेटफार्म क्रमांक-एक के मुख्य द्वार से भी वह आसानी से प्रवेश कर गया। यहां पर टिकट चेक करने वाले टीटी भी मौजूद नहीं रहे। लौटते समय भी यहां पर इसी तरह का नजारा रहा।

वेटिंग हॉल- समय:12.20
प्लेटफार्म क्रमांक दो के महिला और पुरुष प्रतीक्षालय में भी सुरक्षा का मीटर चेक करने की कोशिश इसी संदिग्ध केन के माध्यम से की गई। सबसे पहले पुरुष प्रतीक्षालय पहुंचा गया। यहां पर कुर्सियों में तीन से चार यात्री लेटे हुए आराम कर रहे थे। यात्री ने प्रतीक्षालय के अंदर केन लाते हुए देखा, लेकिन वह कुछ नहीं कहा। इसके बाद उस केन को यात्री के सिर के समीप रख दिया गया। इसके बावजूद किसी ने भी आपत्ति नहीं जताई। यहां पर पांच मिनट इसी तरह से केन को लावारिस हालत में छोड़ दिया गया। इसके बाद महिला प्रतीक्षालय में केन लेकर प्रवेश किया गया। यहां एक युवती इस दौरान मोबाइल में बात कर रही थी। जिस टेबिल के सामने युवती बैठी हुई थी। उसी टेबिल पर केन रख दिया गया।

प्लेटफार्म क्रमांक-4- समय: 12.35
ट्रेन का इंतजार कर रहे यात्रियों के बीच इस केन को लेकर पहुंचा गया। प्लेटफार्म क्रमांक -4 में यात्री ट्रेन आने का इंतजार कर रहे थे। इस दौरान यात्रियों के भीड़-भाड़ वाले क्षेत्र में ही केन लेकर आराम से रिपोर्टर घूमता रहा। इस दौरान यात्रियों की नजर जरुर केन पर पड़ी, लेकिन किसी तरह से झंझट में फंसने से दूरी बनाए रखी। इतना ही नहीं जिस जगह पर यात्री बैठे हुए थे। उसी जगह पर केन भी रख दिया गया।

गोंदिया-बरौनी ट्रेन- समय:12.40
शहडोल होते हुए गोंदिया से बरौनी जाने वाली ट्रेन प्लेटफार्म क्रमांक-4 में पहुंची। इस दौरान सामने जनरल डिब्बे में नकली ज्वलनशील पदार्थ को लेकर अंदर प्रवेश किया गया। गेट में यात्री खड़े हुए थे। उन्हें किनारे किया गया, सीट के ऊपर ही रैक में इस केन को आसानी से रख दिया गया। इस दौरान यात्री सिर्फ देखते रहे। किसी ने कोई आपत्ति नहीं जताई। एक दो यात्री जरुर केन में पेट्रोलियम पदार्थ को लेकर एक दूसरे से कानाफूसी करते रहे। लेकिन किसी ने विरोध नहीं जताया। तीन मिनट तक इस बोगी में यह केन लावारिश हालात में रखी रही।

पुलिस ने बांधी पट्टी समय: 12.44
गोंदिया-बरौनी ट्रेन जब प्लेटफार्म में पहुंची, तब जरुर यहां पर कुछ पुलिसकर्मी दिखाई दिए। बनावटी ज्वलनशील पदार्थ के केन को लेकर वे आंख में पट्टी बांधे रहे। हाथ में डंडा लेकर ही यात्रियों की सुरक्षा का दम ये भरते रहे। पुलिस के सामने ही केन को हाथ में झुलाते हुए निकल गए। सीढ़ी से इस दौरान चुनाव कार्य से लौट रहे पुलिस कर्मचारियों का भी एक दल मिला। लेकिन सभी पुलिसकर्मियों को ट्रेन पकडऩे की इतनी जल्दी रही कि वे उन्होने नकली ज्वलनशील पदार्थ के केन से मुंह ही मोड़ लिया।