दैनिक भास्कर हिंदी: प्रसव में देरी से पेट में नवजात की मौत- परिजनों ने मचाया हंगामा

April 21st, 2018

डिजिटल डेस्क बालाघाट। जिला अस्पताल में भर्ती मरीजों की चिकित्सकों द्वारा की जा रही अनदेखी के कारण एक और प्रसूता के बच्चे की गर्भ में ही मौत हो गई। जिसका पता भी प्रसूता और परिजनों को निजी चिकित्सालय की जांच में चला। जबकि परिजनों का कहना है कि प्रसूता को विगत 15 अप्रैल को जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया गया था। जिसके बाद भी उसका समय पर प्रसव नहीं कराकर चिकित्सकों ने उन्हें रोके रखा। जब गुरूवार को वह निजी चिकित्सालय लेकर पहुंचे तो वहां उन्हें पता चला कि प्रसव के लिए लाई गई महिला के गर्भ में ही बच्चे की मौत हो गई है। 

परिजनों ने जताया आक्रोश, अस्पताल प्रबंधन पर लगाया आरोप 
जिला अस्पताल में प्रसव के लिए भर्ती कराई गई रामपायली अंतर्गत कौलीवाड़ा निवासी महिला आम्रपाली पति प्रवीण गजभिये को परिजन गुरूवार की शाम निजी चिकित्सालय लेकर पहुंचे तो वहां जांच में उन्हें पता चला कि महिला आम्रपाली के गर्भ में बच्चा मृत हो गया। जिसके बाद परिजन महिला आम्रपाली को लेकर जिला चिकित्सालय पहुंचे और यहां अपना आक्रोश जाहिर करते हुए अस्पताल प्रबंधन की चिकित्सीय व्यवस्था पर अनदेखी का आरोप लगाया। जिसके बाद मामले की पुलिस में शिकायत के बाद महिला के गर्भ में मृत बच्चे को निकालकर पुलिस ने नवजात का मृत शव बरामद कर उसका पोस्टमार्टम करवाकर शव परिजनोंं को सौंप दिया है। 

की जाएगी अग्रिम विवेचना
अस्पताल चौकी प्रभारी कोमेन्द्र गौतम का कहना है कि चूंकि परिजनों को संदेह था कि बच्चे की मौत प्राकृतिक नहीं बल्कि चिकित्सालय प्रबंधन की अनदेखी के कारण हुई है। जिसकी शिकायत के बाद मामले में मृत नवजात का शव बरामद कर उसका पोस्टमार्टम करवाया गया है। जिसकी पीएम रिपोर्ट के बाद ही नवजात के मृत होने की जानकारी मिल सकती है।  उन्होंने बताया कि मामले की मर्ग डायरी कोतवाली थाने भेजी जाएगी। जहां से इस मामले की अग्रिम विवेचना की जाएगी।