बालाघाट : निर्दयी पिता की पिटाई से डेढ़ साल का बेटा घायल, भर्ती

August 29th, 2022


डिजिटल डेस्क, बालाघाट । एक पिता का फर्ज अपने बच्चे को दुनिया की हर खुशियां देना, अपनी औलाद की हर ख्वाहिश पूरी करने का होता है, लेकिन जिले में एक निर्दयी पिता ने अपने महज एक साल पांच महीने के मासूम बेटे को इतनी निर्दयीता से पीटा की, उसे अस्तपाल में भर्ती कराना पड़ा। मामला नवेगांव थाना अंतर्गत ग्राम कटंगी का है। जानकारी के अनुसार, गत रात कटंगी ग्राम के कुछ जागरूक ग्रामीणों द्वारा चाइल्ड लाइन 1098 को कॉल पर सूचना दी गई कि कटंगी निवासी तुलसीदास वासनिक द्वारा अपने मासूम बेटे की बेरहमी से पिटाई की गई है। सूचना पर तत्काल चाइल्ड लाइन की टीम मौके पर पहुंची और चोटिल बालक को जिला अस्पताल में भर्ती कराया, जिसका उपचार जारी है। चाइल्ड लाइन की शिकायत पर पिता तुलसीराम के खिलाफ नवेगांव थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है, जिसकी पुलिस जांच कर रही है। वहीं, आरोपी का कहना है कि उसने शराब के नशे में बेटे को मारा और चोट पहुंचाई।  
एक बेटे को बेच चुका है आरोपी
चाइल्ड लाइन से मिली जानकारी के अनुसार, आरोपी तुलसीदास आदतन शराबी है। उसकी पत्नी ने जनवरी 2021 में जुड़वा बच्चों को जन्म दिया, लेकिन जन्म देने के लगभग चार महीने बाद मां का निधन हो गया। ग्रामीणों ने चाइल्ड लाइन के सदस्यों को जानकारी देते हुए बताया कि आरोपी तुलसीदास मां की ममता से महरूम मासूम दोनों बच्चों को उनका पिता अक्सर छोटी-छोटी गलतियों पर बेरहमी से पीटता है। ग्रामीणों ने जानकारी दी कि कुछ महीने पहले उसने अपने बड़े बेटे को बिहार की एक महिला को एक लाख रुपए में बेच भी चुका है। जिसे आरोपी द्वारा चाइल्ड लाइन तथा मामले में संज्ञान में लेने वाली बाल कल्याण समिति के सामने कबूल कर चुका है। 
ग्रामीणों से करता है बदसलूकी
आवाज संस्था के जिला परियोजना समन्वयक शिवगिरी गोस्वामी ने बताया कि कटंगी के ग्रामीणों ने बताया कि आरोपी तुलसीदास गांव में शराब के नशे में अक्सर ग्रामीणों के साथ बदसलूकी करता है। बेटे को मारते वक्त बीच-बचाव में जाने पर वह गाली-गलौच करता है। नवेगांव थाना प्रभारी प्रदीप खन्ना ने बताया कि चाइल्ड लाइन की शिकायत पर आरोपी के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है। मामले की जानकारी मिलते ही बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष अनिता खरे भी अस्पताल पहुंची और मामले के बारे में विस्तृत जानकारी ली। 
इनका कहना है
कोई भी माता-पिता या अन्य इतनी कम उम्र के मामूम बच्चे को मारने का हकदार नहीं हो सकता। चाइल्ड लाइन की शिकायत पर नवेगांव थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई है। बच्चे के स्वस्थ्य होने के बाद उसकी बेहतरी के बारे में विचार करेंगे। फिलहाल उसका इलाज चल रहा है। 
 

खबरें और भी हैं...