comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

इंदौर में 16 करोड़ की लागत से विभिन्न विकास कार्यो का भूमिपूजन एवं लोकार्पण ड्रम कम्पोस्टर प्लांट का भूमि पूजन

November 13th, 2020 16:27 IST
इंदौर में 16 करोड़ की लागत से विभिन्न विकास कार्यो का भूमिपूजन एवं लोकार्पण ड्रम कम्पोस्टर प्लांट का भूमि पूजन

डिजिटल डेस्क, इन्दौर।  इंदौर में आज स्वच्छ भारत मिशन के तहत ड्रम कम्पोस्टर प्लांट का भूमि पूजन, अमृत योजना अंतर्गत ट्रीटेड पानी के पुर्नउपयोग हेतु पानी की टंकी व वितरण लाईन का लोकार्पण, प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत विकसित आवासीय प्रकोष्ठ के ऑन लाईन पंजीयन हेतु वेबसाईट का शुभारम्भ, स्वच्छता अभियान में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले कर्मचारियो सहित राजस्व विभाग में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले अधिकारियों व कर्मचारियों का सम्मान किया गया। इस अवसर पर आयोजित समारोह में पूर्व मंत्री व विधायक श्री तुलसीराम सिलावट, सांसद श्री शंकर लालवानी, विधायक श्री रमैश मेन्दोला, श्री महेन्द्र हार्डिया , आयुक्त नगर निगम सुश्री प्रतिभा पाल विशेष रूप से मौजूद थीं। इस अवसर पर पूर्व मंत्री व विधायक श्री तुलसीराम सिलावट ने कहा कि इंदौर मध्य प्रदेश का गौरव है, यहां के नागरिक बड़े ही समयोगी है, हमें गर्व है कि हम इंदौर में रहते है, आप सभी के सहयोग का परिणाम है कि इंदौर स्वच्छता में चार बार नंबर वन स्वच्छ शहर रहा है और पांचवी बार भी इंदौर देश में स्वच्छता में नंबर वन शहर रहेगा। नगर निगम इंदौर की टीम बधाई की पात्र है, इंदौर के विकास व स्वच्छता अभियान में इंदौर के समस्त अधिकारियों व कर्मचारियों का महत्वपूर्ण योगदान है। सांसद श्री शंकर लालवानी ने कहा कि इंदौर स्वच्छता का चैम्पियन है, संसद में अन्य सांसदो द्वारा मुझसे पूछा जाता है कि इंदौर स्वच्छता में किस प्रकार से देश में 4 बार नंबर वन शहर बना है तो मैं उनसे कहता हूं कि यह सब इंदौर की जागरूक जनता, जनप्रतिनिधि, निगम के अधिकारियों व कर्मचारियों के समन्वय के साथ किये गये कार्यो का परिणाम हैं। इंदौर स्वच्छता में पांचवी बार भी नंबर वन शहर बनेगा। देश में पहली बार ट्रीटेड वॉटर पानी का रियूज किया जायेगा, इससे शहर में पानी की उपलब्धता बढ़ेगी और भू-जल स्तर में भी वृद्धि होगी। विधायक श्री रमेश मेन्दोला ने कहा कि निगम द्वारा स्वच्छता अभियान में बहुत ही उत्कृष्ठ कार्य किया है, आज निगम के राजस्व विभाग व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों व कर्मचारियों का सम्मान किया जा रहा है, निगम की टीम को बधाई। विधायक श्री मेन्दोला ने कहा कि ड्रम कम्पोस्टर प्लांट हेतु शहीद पार्क स्थित इस भूमि पर क्षेत्रीय नागरिकों द्वारा सामुदायिक भवन बनाने की लगातार मांग की जाती रही है, इसलिये नागरिको की सुविधा के लिये इस रिक्त भूमि पर सामुदायिक भवन का निर्माण किया जाये। विधायक श्री महेन्द्र हार्डिया ने कहा कि निगम की टीम बधाई की पात्र है, जो कि स्वच्छता में बेहतर कार्य कर रही है। उन्होने कहा कि रिंग रोड स्थित सर्विस रोड के समीप यह भूमि सिटी फारेस्ट की भूमि है, जो कि पहले अतिक्रमण से ग्रस्त थी, इसे अतिक्रमण से मुक्त कराया गया व बाउण्डीवॉल का निर्माण कर संरक्षित की गई है। स्मार्ट गार्डन वेस्ट ड्रम कम्पोस्टर प्लांट का भूमिपूजन आयुक्त सुश्री प्रतिभा पाल ने इस अवसर पर कहा कि निगम द्वारा गार्डन वेस्ट प्रबंधन के क्षेत्र में देश का सबसे बडा स्मार्ट गार्डन वेस्ट ड्रम कम्पोस्टर प्लांट विथ चिपर इंस्टॉल किया जा रहा है, स्वच्छ भारत मिशन अंतर्गत हरित कचरे के निपटान हेतु 10 टन प्रतिदिन क्षमता के शहीद पार्क व 10 टन प्रतिदिन क्षमता के मेघदूत गार्डन में प्लांट ड्रम कम्पोस्टर प्लांट का अतिथियो द्वारा भूमिपूजन किया गया। इस अत्याधुनिक स्मार्ट ड्रम कम्पोस्टर प्लांट में ग्रीन बेल्ट, कालोनी, गार्डन से कट-छांट कर आये हुए हरित कचरे जैसे टहनियां, पत्तियां, घास, पत्ते, लकडी, कृषि वेस्ट आदि को पहले चिपर और फिर श्रेडर से छोटे टूकड़ों में कर कन्वेयर से स्मार्ट ड्रम कम्पोस्टर प्लांट में भेजा जायेगा। इस ड्रम की विशेषता है कि ऐसे बल्क वेस्ट का हैंडल करने हेतु बने है, यह ऑटो रोटेशन प्रोग्रामिंग, टेम्प्रेचर सेंसर, एयर सर्कुलेशन सिस्टम से युक्त है, इस प्लांट में 10 से 15 दिनो में पूर्णतः प्राकृतिक तरीके से कचरे को खाद में बदला जाता है। प्लांट के शुरू होने के बाद ग्रीन वेस्ट का कचरा ट्रेचिंग ग्राउण्ड पर जाना पूरी तरह से बंद हो जाएगा। 16 करोड के विकास कार्यो का शिलान्यास, भूमिपूजन व लोकार्पण नगर निगम आयुक्त सुश्री पाल ने बताया कि 16 करोड रूपये की लागत से अमृत योजना अंतर्गत ट्रीटेड पानी के पुर्नउपयोग हेतु 3 एमएलडी क्षमता की पानी की टंकी व 35 कि.मी. रियूज नेटवर्क पाईप लाईन का अतिथियो द्वारा शुभारम्भ किया गया। इस ट्रीटेड पानी से शहर के 110 उद्यानो, ग्रीन बेल्ट, डिवाईडर आदि पर पौधो को पानी दिया जायेगा।

कमेंट करें
mNh0k
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।