comScore

प्रेमिका से मिलने बाराती बनकर पहुंचा था युवक -  जैतहरी अंधी हत्या का खुलासा, चार आरोपी गिरफ्तार

प्रेमिका से मिलने बाराती बनकर पहुंचा था युवक -  जैतहरी अंधी हत्या का खुलासा, चार आरोपी गिरफ्तार

डिजिटल डेस्क अनूपपुर । जैतहरी जनपद अंतर्गत 30 अप्रैल की रात ग्राम पंचायत सिंघौरा में एक युवक की लाठी से पीटकर अज्ञात लोगों के द्वारा हत्या कर दी गई थी। 4 दिनों में ही पुलिस को इस मामले में सफलता मिली और हत्या में शामिल रहे चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। पूछताछ में सामने आया कि मृतक अपनी प्रेमिका से मिलने के लिए फर्जी बराती बन कर आया था। मृतक को बारात के लिए आमंत्रित नहीं किया गया था। ग्राम पंचायत सिंघौरा में निवासरत शंकर सिंह गोंड़ उर्फ भोला की भांजी की शादी 30 अप्रैल को थी। बारात जैतहरी के चांदपुर से आई थी। उसी बारात में तथाकथित बाराती बनकर आए कमलेश राठौर उर्फ  गुड्डू 32 वर्ष पिता प्रेमलाल राठौर निवासी महुदा अपने रिश्ते के मामा सुनील राठौर 29 वर्ष निवासी क्योंटार के साथ आया था। शक्रवार-शनिवार की दरमियानी रात 3 बजे शादी वाले घर से कुछ ही दूरी पर कमलेश ने अपने मामा सुनील को कहा कि तुम यही रुको मैं आता हूं। इसके बाद वह वहां से चला गया। कुछ समय बाद कमलेश ने अपने मामा सुनील को फोन करके बतलाया कि मामा मुझे यहां मार रहे है। मामा सुनील मौके पर पहुंचा तो उसने देखा कि 3-4 लोग कमलेश को पीट रहे थे। सुनील को आता देख उन्होंने सुनील पर भी हमला कर दिया, जिसके बाद वह बेहोश हो गया। सुनील ने शुरुआती जांच में पुलिस को यही बयान दिया था। किंतु पूछताछ की तो कहानी कुछ और ही निकली।
प्रेमिका के परिजनों ने पीटा
जांच के दौरान पुलिस ने सुनील से जब कड़ाई से पूछताछ की तो उसने बताया कि सिंघोरा ग्राम में ही निवास करने वाली विवाहित महिला से कमलेश के प्रेम संबंध थे। बारात का बहाना बनाकर कमलेश अपनी प्रेमिका से मिलने आया था। आधी रात को जब वह अपनी प्रेमिका से मुलाकात कर ही रहा था कि प्रेमिका के 27 वर्षीय भतीजे दान बहादुर सिंह ने उन्हें देख लिया। इसके बाद उसने नेम सिंह, सुधार सिंह और अमीर सिंह के साथ मिलकर लाठी डंडे से दोनों पर हमला कर दिया। हमले में सुनील को हल्की चोट आई, वहीं कमलेश की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। सुनील ने पुलिस को यह भी बताया कि मारपीट करने के दौरान सभी आरोपी एक दूसरे का नाम लेकर जान से खत्म कर देने की बात भी कह रहे थे। जिसके आधार पर ही आरोपियों की पहचान हुई और उन्हें पकड़ कर पूछताछ की गई तो उन्होंने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया। हत्या के खुलासे में एडिशनल एसपी अभिषेक राजन, एसडीओपी अनूपपुर सुश्री कीर्ति बघेल के साथ जैतहरी प्रभारी एसके तिवारी सहित पुलिस स्टाफ  का योगदान रहा। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक राजन का कहना है कि हत्या के मामले में चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।
 

कमेंट करें
ARKEQ