दैनिक भास्कर हिंदी: तुलसी पूजा का विशेष दिन, इस विधि से होगा लाभ

March 11th, 2018

 

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। तुलसी पूजा का विशेष दिन, आप सोच में पड़ गए होंगे, क्योंकि तुलसी  का पूजन तो प्रतिदिन ही किया जाता है और हर दिन ही तुलसी पूजन फलदायी एवं पुण्यदायी साबित होता है, किंतु तुलसी विवाह अर्थात ग्यारस के अतिरिक्त ऐसा भी एक दिन है जब तुलसी पूजन श्रेष्ठ बताया गया है। वह विशेष दिन है एकादशी। सामान्य रूप से ये दिन भगवान विष्णु को समर्पित है और इस दिन व्रतधारी भगवान विष्णु का पूजन मोक्ष प्राप्ति की कामना से करते हैं, किंतु विष्णु प्रिय होने की वजह से इस दिन तुलसी पूजन का भी विशेष महत्व है। तुलसी की पूजा से जीवन में सकारात्मक बदलाव आते हैं लेकिन इसके लिए सही विधि से तुलसी की पूजा करनी चाहिए। 

 

-तुलसी पात्र अतिपवित्र माना गया है। कहा जाता है कि जहां भी तुलसी का पौधा होता है वहां कभी भी नकारात्मक शक्तियां निवास नहीं करतीं। घर के मुख्य द्वार के सम्मुख लगाने पर कोई भी बुरी शक्ति घर के अंदर प्रवेश भी नहीं कर पाती।


-एकादशी पर जल अर्पित करने के पश्चात तुलसी परिक्रमा करने से मनुष्य बुरे कर्मों की ओर कभी भी आकर्षित नही होता। उसमें सही निर्णय लेने की क्षमता विकसित होती है। 


-वैसे तो संध्याकाल में प्रतिदिन तुलसी के समक्ष दीपक जलाने का महत्व है, किंतु यदि आप इसे एकादशी के दिन संध्याकाल में करते हैं तो जीवन के समस्त दोषों का निदान होता है। 


-संध्याकाल में तुलसी पात्र नही तोड़ना चाहिए। ऐसा करने पर विपरीत परिणाम सामने आते हैं और परिवार में कलह बढ़ जाती है। अनेक बार ये दुर्घटना का भी कारण बनता है।


-एकादशी पर विष्णु पूजन के साथ ही तुलसी पूजन भी कार्यों को सिद्ध करने वाला बताया गया है। कहा जाता है कि इस दिन भगवान विष्णु को प्रसाद में तुलसी अर्पित कर वह बांटी जाए तो उसका लाभ वह प्रसाद प्राप्त करने वालों को भी होता है।