comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Coronavirus: दुनिया में 42 हजार से ज्यादा लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 8 लाख पार, स्पेन में पिछले 24 घंटों में 849 लोगों की जान गई

Coronavirus: दुनिया में 42 हजार से ज्यादा लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 8 लाख पार, स्पेन में पिछले 24 घंटों में 849 लोगों की जान गई

हाईलाइट

  • इटली में 11 हजार 591 लोगों की जान जा चुकी है
  • स्पेन में अब तक 8 हजार 189 लोगों की मौत, 94 हजार 417 संक्रमित
  • अमेरिका में सबसे ज्यादा 1,64,359 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस का कहर अब पूरी दुनिया के लिए महामारी का रूप ले चुका है। इस जानलेवा वायरस की जद में अब तक 199 देश आ चुके हैं और 8 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। इस वायरस से स्पेन की राजकुमारी मारिया टेरेसा की मौत हो चुकी है। वहीं जर्मनी के मंत्री ने खुदकुशी कर ली है। आंकड़ों के अनुसार करीब 8 लाख 56 हजार 356 लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 42,086 लोग काल के गाल में समा चुके हैं। हालांकि राहत की बात यह है कि 1 लाख 76 हजार 965 लोग स्वस्थ हुए हैं, वहीं 6 लाख 37 हजार 305 लोग अब भी इस बीमारी से अस्पताल में जूझ रहे हैं।

इटली में सबसे ज्यादा 12,428 लोगों की मौत
चीन में पिछले दिसंबर में महामारी की उत्पत्ति हुई, लेकिन अब अन्य देशों ने संक्रमण संख्या और मृत्यु दर के मामले में इसे पीछे छोड़ते हुए आगे निकल गए हैं। इटली में कोरोना वायरस के कारण अब तक 12,428 लोगों की मौत हो चुकी है। वहां इस जानलेवा महामारी का इलाज कर रहे डॉक्टर भी संक्रमण की चपेट में आने लगे हैं। अभी तक इटली में कुल 66 डॉक्टरों की कोरोना वायरस की वजह से मौत हो चुकी है। 

अमेरिकी विवि ने स्वचालित और सस्ते वेंटिलेटर बनाए, यहां सबसे ज्यादा संक्रमित
कोरोना वायरस के सबसे ज्यादा संक्रमित मामले अमेरिका में सामने आए हैं। यहां अब तक 1,87,260 संक्रमित हो चुके हैं। वहीं 3,849 लोगों की मौत हो चुकी है। कोरोना वायरस के कारण दुनियाभर में वेंटिलेटर की मांग बढ़ गई है। ऐसे में टेक्सास के एक विश्वविद्यालय ने स्वचालित और हाथ में लेकर उपयोग किए जा सकने वाले, सस्ते श्वसन उपकरण बनाए हैं, जिनका जल्द ही इस्तेमाल किया जाएगा। पूरे अमेरिका के अस्पतालों में वेंटिलेटरों की कमी है। कुछ चिकित्सा उपकरण निर्माता आपूर्ति तेज करने को तैयार हुए हैं। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिका को अगले दो हफ्ते के लिए आगाह किया है। ट्रंप ने कहा है कि अमेरिका के लिए अगले दो हफ्ते बेहद दर्दनाक होने वाले हैं। 

ब्रिटेन मे 13 वर्षीय बच्चे की मौत
समाचार एजेंसी एएफपी के मुताबिक ब्रिटेन के 13 वर्षीय बच्चे की कोरोना वायरस की वजह से मौत हो गई।

पाकिस्तान में 1900 से अधिक संक्रमित
पाकिस्तान में स्थिति गंभीर होते जा रही है. यहां 31 मार्च (मंगलवार) तक संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1914 हो गई तो वहीं अब तक 26 लोगों की जान भी जा चुकी है।

इजराइली सेना प्रमुख ने खुद को पृथक किया
इजराइल रक्षा बल के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल अवीव कोचावी और दो वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों ने मंगलवार को खुद को पृथक कर लिया क्योंकि वे हाल ही में उस कमांडर के सम्पर्क में आए थे, जिसके कोरोना वायरस से संक्रमित होने की पुष्टि हुई है।

फ्रांस में 3500 मौतें
फ्रांस में पिछले 24 घंटे में 499  मौतें हुई हैं, जिसके बाद यहां मृतकों की संख्या बढ़कर 3500 के पार हो गई है।

स्पेन में पिछले 24 घंटों में 849 की मौत 
स्पेन में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के संक्रमण से रिकार्ड 849 लोगों की मौत हो गई जिससे देश में इस महामारी से मृतकों की संख्या बढ़कर 8,189 हो गई है। पिछले 24 घंटे में 9,222 लोग इस वायरस से संक्रमित पाये गए हैं जिससे पुष्ट मामलों की कुल संख्या बढ़कर 94,417 हो गई है।

ईरान में 141 और लोगों की मौत
ईरान में कोरोना वायरस से 141 और लोगों की मौत हो गई है, जबकि मरने वालों की संख्या 2,898 हो गई।

कोरोना संकट के कारण वित्तमंत्री थॉमस शेफर ने की आत्महत्या
जर्मनी के एक मंत्री ने कोरोना संकट की चिंताओं के कारण आत्महत्या कर ली। जर्मनी के हेस्से राज्य के वित्त मंत्री थॉमस शेफर एक रेलवे ट्रैक के पास मृत पाए गए। उन्होंने स्पष्ट रूप से आत्महत्या की है। वह कोरोना संकट के चलते आर्थिक गिरावट से बहुत चिंतित थे।

कोरोना वायरस से स्पेन की राजकुमारी की मौत
कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण स्पेन की राजकुमारी मारिया टेरेसा की मौत हो गई है। दुनियाभर में कोरोना से किसी रॉयल परिवार में होने वाली यह पहली मौत है। फॉक्स न्यूज के मुताबिक मारिया 86 साल की थीं। मारिया स्पेन के राजा फेलिम-6 की चचेरी बहन थीं। मारिया के भाई प्रिंस सिक्सटो एनरिके डी बॉरबोन ने एक फेसबुक पोस्ट में इसकी जानकारी दी। यूरोपीय देशों में इटली के बाद स्पेन ही कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित है।

कमेंट करें
BkyYi
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।