पाक ने भारत के दबाव में की कार्रवाई: खूंखार आतंकी हाफिज सईद को लाहौर कोर्ट ने सुनाई 31 साल की सजा, भारत की मोस्ट वांटेड सूची में है शामिल

April 8th, 2022

हाईलाइट

  • हाफिज सईद पर 3 लाख 40 हजार रूपए का जुर्माना
  • आतंकी हाफिज सईद 2008 में मुंबई में हुए बम धमाकों का था मास्टरमाइंड

डिजिटल डेस्क, इस्लामाबाद। दुनियाभर में अपने आतंक से दहशत फैलाने वाला खूंखार आतंकी हाफिज सईद को लाहौर की एक कोर्ट ने आतंकी गतिविधि में संलिप्त रहने पर 31 साल की सजा सुनाई है। कोर्ट ने हाफिज सईद पर 3 लाख 40 हजार रूपए का जुर्माना भी लगाया है। अब पाकिस्तान पर भारत का दबाव साफ दिखाई देने लगा है। पाकिस्तान दुनिया भर के देशों को बताना चाहता है कि वह आतंकियों के खिलाफ सख्त हैं। भारत हमेशा पाक पर आतंकियों को शरण देने का आरोप लगाता रहा है।

भारत ने हर मोर्चे पर आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान को घेरा है। जिसका सीधा असर अब दिखने लगा और मजबूर होकर पाकिस्तान खूंखार आतंकी हाफिज सईद पर एक्शन लेना शुरू कर दिया है। पाकिस्तान की विभिन्न वेबसाइट्स पर छपी न्यूज रिपोर्ट्स के अनुसार, इससे पहले ऐसे पांच मामलों में 70 वर्षीय कट्टरपंथी मौलवी को पहले ही 36 साल कैद की सजा सुनाई जा चुकी है। उसे मिली 68 साल कैद की कुल सजा एक साथ चलेगी।

इन मामलों में आतंकी हाफिज सईद को मिली सजा

लाहौर कोर्ट की एक अदालत ने न्यूज एजेंसी पीटीआई न्यूज एजेंसी को बताया कि शुक्रवार को आतंकवाद निरोधक अदालत के न्यायाधीश एजाज अहमद भुट्टर ने पंजाब पुलिस के आतंकवाद रोधी विभाग द्वारा दर्ज दो प्राथमिकी 21/2019 और 90/2019 में सईद को 32 साल की जेल की सजा सुनाई है।

अधिकारी ने बताया कि 21/19 और 99/21 में उसे पहले भी क्रमशः साढ़े 15 साल और साढ़े 16 साल कैद की सजा सुनाई गई थी। अदालत ने सईद पर 3.4 लाख पाकिस्तानी रुपयों का जुर्माना भी लगाया। उन्होंने कहा कि सईद को लाहौर की कोट लखपत जेल से अदालत में लाया गया, जहां वह 2019 से कड़ी सुरक्षा में कैद है।  पाकिस्तान आतंकियों पर सख्त रूख अख्तियार कर दुनिया को दिखाना चाह रहा है कि वह आतंकियों को शरण नहीं देता है और कार्रवाई करने से पीछे नहीं हटता। 

अमेरिका ने इस आतंकी के ऊपर रखा है इनाम

संयुक्त राष्ट्र में नामित आतंकवादी हाफिज सईद पर अमेरिका ने भी एक करोड़ अमेरिकी डॉलर का इनाम रखा है। 2008 में हुए मुंबई हमलों में छह अमेरिकी नागरिकों की भी मौत हुई थी। 2012 में अमेरिका ने उसके सिर पर 10 मिलियन डॉलर (लगभग 70 करोड़ रुपये) का इनाम घोषित कर दिया। हालांकि, सईद ने अमेरिका की इस घोषणा को हास्यास्पद करार दिया था।

खूंखार आतंकी हाफिज सईद ने पूरी दुनिया में अपनी आतंक मचा रखा है। दुनिया भर के कई देशों में इसके द्वारा ट्रेनिंग पाये आतंकवादी काम कर रहे हैं। इन आतंकियों का मकसद केवल दहशत फैलाना है। अमेरिका को इस आतंकी की कई दिनों से तलाश है। 

भारत की मोस्ट वांटेड सूची में शामिल 

आतंकी हाफिज सईद 2008 (26/11) में मुंबई में हुए सिलसिलेवार बम धमाकों का मास्टरमाइंड है। इस हमले में छह अमेरिकियों सहित 164 लोगों की मौत हो गई थी। 2006 में मुंबई ट्रेन धमाकों में भी हाफिज सईद का हाथ रहा। 2001 में भारतीय संसद तक को सईद ने निशाना बनाया। वो एनआइए की मोस्ट वांटेड सूची में शामिल है।

मुंबई हमले के बाद भारत सरकार ने पाकिस्तान से इस आतंकी को सौंपने को कहा था। लेकिन पाकिस्तान लगातार सईद को आतंकी मानने से इनकार करता रहा है। भारत समेत अमेरिका, ब्रिटेन, यूरोपीय संघ, रूस और ऑस्ट्रेलिया ने इसके दोनों संगठनों को प्रतिबंधित कर रखा है।


 

खबरें और भी हैं...