दैनिक भास्कर हिंदी: दूसरे देशों में धर्मांतरण का विरोध अल्पसंख्यक करते हैं, यहां बहुसंख्यक कर रहे हैं, कुछ तो बात है : राजनाथ

January 16th, 2019

हाईलाइट

  • गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने बड़े पैमाने पर होने वाले धर्मांतरण पर चिंता जताई।
  • राजनाथ ने कहा- अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन करने पर आपत्ति नहीं, लेकिन बड़ी संख्या में लोगों का धर्म परिवर्तन किया जाना गलत है।
  • राजनाथ बोलो, अगर आप हिंदू है तो हिंदू रहें, मुस्लिम है तो मुस्लिम, पूरी दुनिया का धर्मांतरण क्यों करा रहे हैं?

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने इशारों ही इशारों में देश में हिंदुओं के धर्म परिवर्तन को लेकर अन्य समुदायों के धर्म प्रचारकों पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि ब्रिटेन और अमेरिका में अल्पसंख्यक समुदाय धर्मांतरण रोकने के लिए कानून बनाने की मांग करते हैं, जबकि हमारे यहां बहुसंख्यक समुदाय इसके लिए मांग करता है। यह एक बड़ी चिंता की बात है।

 

 

राजनाथ के इस बयान से साफ जाहिर है कि वे खासकर हिंदुओं के हो रहे धर्मांतरण को लेकर चिंता व्यक्त कर रहे थे। बड़ी बात यह कि उन्होंने यह बयान ईसाई संस्था द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में कही। यह कार्यक्रम नई दिल्ली के विज्ञान भवन में आयोजित किया गया  था। कार्यक्रम में उन्होंने कहा, 'अगर कोई शख्स अपनी मर्जी से धर्म परिवर्तन करता है तो इस पर कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन एक साथ बड़ी संख्या में लोगों का धर्म परिवर्तन किया जाना किसी भी देश के लिए चिंता की बात है।'

राजनाथ ने कहा, 'अगर आप हिंदू है तो हिंदू रहिए, मुस्लिम है तो मुस्लिम, ईसाई हैं तो ईसाई रहें। आप पूरी दुनिया का धर्मांतरण क्यों करा रहे हैं?'

इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि देशभर में बड़ी संख्या में धर्मांतरण की जांच करनी होगी। उन्होंने अपनी सरकार को बिना भेदभाव के सभी समुदायों के लिए काम करने वाली सरकार भी बताया। राजनाथ ने कहा, 'वोट मिले या न मिले। हम हम जीतें या हारें लेकिन हम कभी समुदायों में भेद नहीं करते। पीएम मोदी की भी सोच यही है।'