comScore

 51 यात्री गाड़ियां  रद्द, सतना जंक्शन में सन्नाटा

 51 यात्री गाड़ियां  रद्द, सतना जंक्शन में सन्नाटा

डिजिटल डेस्क, सतना। मुंबई में भारी बारिश के कारण सोमवार को दूसरे दिन भी मुंबई-हावड़ा प्रमुख रेल मार्ग पर मुंबई की ओर आने -जाने वाली 51 यात्री गाड़ियों का  परिवहन ठप्प रहा। यहां के व्यस्ततम स्टेशन में दिन भर सन्नाटा रहा।  रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि सोमवार के दिन इस  रेल मार्ग के अप-डाउन ट्रैक पर तकरीबन 95 गाड़ियां चलती हैं।  इनमें से 15 स्पेशल ट्रेन और अन्य साप्ताहिक गाड़ियां शामिल हैं। उल्लेखनीय है, इन्हीं में से 34 ऐसी यात्री गाड़ियां  हैं,जिनका सीधा संबंध सेंट्रल रेलवे के मुंबई से है। हालांकि इसी बीच सोमवार को सतना से कटनी के अप-डाउन ट्रैक पर 44,  जबलपुर के लिए 20 और इटारसी जंक्शन के लिए 24 गाड़ियां  उपलब्ध रहीं।

टोटल रिफंड में गए साढ़े 3 लाख 

अधिकारियों ने बताया कि मुंबई की ओर जाने वाली काशी एक्सप्रेस को सतना में रद्द किए जाने पर इस गाड़ी में यात्रा कर रहे यात्रियों को किराए के मद में साढ़े 3 लाख का फुल रिफंड किया गया। फुल रिफंड के लिए सतना जंक्शन में रविवार और सोमवार की दरमियानी रात पहली बार पीआरएस खुला रहा। पीआरएस में 2 अलग-अलग काउंटर के अलावा सामान्य दर्जे के यात्रियों के लिए भी अलग से काउंटर खोले गए थे। अधिकारियों ने बताया कि फुल रिफंड उन यात्रियों को दिए गए,जिन्होंने काउंटर से टिकट ली थी। जबकि आरआईसीटीसी के जरिए ऑनलाइन टिकट खरीदने वाले यात्रियों के किराए का भुगतान उनके एकाउंट पर होगा। 

1  दिन में साढ़े 6 लाख की राजस्व क्षति 

मुंबई में भीषण वर्षा के कारण मुंबई-हावड़ा रेल मार्ग पर यातायात के बाधित होने से अकेले सतना जंक्शन में रेलवे को तकरीबन साढ़े 6 लाख रुपए की राजस्व क्षति हुई है। सोमवार को जहां 171 यात्रियों ने लगभग 85 हजार 350 रुपए मूल्य के आरक्षित टिकट कैंसिल करा दिए, वहीं सामान्य दर्जे के साथ प्लेटफार्म टिकट की बिक्री में तकरीबन साढ़े 3 लाख की गिरावट दर्ज की गई। सतना जंक्शन में औसतन प्लेटफार्म टिकट के साथ साधारण दर्जे की साढ़े 8 लाख रुपए की टिकट बिकती हैं। 

अधूरी रह गई यात्रा 

मुंबई-हावड़ा के बीच जिन गाडिय़ों को चलाया गया,उनमें से सभी शार्ट टर्मिनेटेड थीं। मसलन- हावड़ा-मेल को भोपाल से हावड़ा , जबलपुर से वाराणसी -एलटीटी सुपर फास्ट को वाराणसी, कटनी से महानगरी को बनारस और सतना से काशी को गोरखपुर के लिए वापस भेज दिया गया था।  रेलवे के अधिकारियों ने बताया कि  सेंट्रल रेलवे  ने 4 अगस्त को रात 7 बजे अलर्ट जारी करते हुए मुंबई की ओर आने वाली गाड़ियों का लेने से इंकार कर दिया था।

कमेंट करें
Uw76o