कांग्रेस में कलह जारी: उत्तराखंड कांग्रेस में तनाव, प्रियंका ने हरीश रावत से की बात

December 23rd, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। कांग्रेस के दिग्गज नेता और उत्तराखंड चुनाव अभियान समिति के प्रमुख हरीश रावत ने उन्हें स्वतंत्र रूप से काम नहीं करने देने के लिए जब पार्टी पर निशाना साधा तो एक दिन बाद गुरुवार को महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने पूर्व केंद्रीय मंत्री को शांत करने के लिए उसने बात की। यह जानकारी सूत्रों ने दी। रावत ने बुधवार को सिलसिलेवार ट्वीटों में कहा था कि बहुत हो गया, यह आराम करने का समय है। क्या यह अजीब नहीं है? जब हमें चुनाव के समुद्र में तैरना है, तो पार्टी संगठन को समर्थन का हाथ बढ़ाना चाहिए, लेकिन उसने इससे मुंह मोड़ लिया है और नकारात्मक भूमिका निभा रहा है। मुझे समुद्र में तैरना है, जहां सत्ताधारी दल ने कई मगरमच्छों को छोड़ रखा है और मेरे हाथ-पैर बंधे हुए हैं।

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, कभी-कभी ऐसा लगता है कि मैंने बहुत काम कर लिया है और अब आराम करने का समय है। मैं दुविधा में हूं, नया साल मुझे रास्ता दिखा सकता है और भगवान केदारनाथ मुझे रास्ता दिखाएंगे। सूत्रों के मुताबिक, रावत टिकट बंटवारे को लेकर खफा हैं और पार्टी मामलों पर अपनी बात रखना चाहते हैं। कांग्रेस ने रावत को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं किया है, जो उनके समर्थकों की प्रमुख मांग है। रावत शुक्रवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात करने वाले हैं।

इस बीच, कुछ नेता - राज्यसभा सांसद प्रदीप टम्टा और विधायक हरीश धामी रावत के समर्थन में सामने आए हैं। उत्तराखंड कांग्रेस गुटबाजी से घिरी हुई है, जिसमें एक गुट का नेतृत्व प्रीतम सिंह कर रहे हैं, जबकि रावत खेमे के अलावा राज्य इकाई के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय का अपना गुट है। रावत ने हालांकि बुधवार को ट्वीट पोस्ट करने के बाद से चुप्पी साध रखी है। प्रीतम सिंह और उपाध्याय के नेतृत्व वाले रावत विरोधी खेमे ने पार्टी नेतृत्व से चुनाव से पहले सीएम चेहरे की घोषणा नहीं करने को कहा है और इससे रावत नाराज हैं। वह टिकट वितरण में अपना उचित हिस्सा चाहते हैं।

सूत्रों ने बताया कि राज्य के नेताओं को दिल्ली बुलाया गया है। उत्तराखंड कांग्रेस अध्यक्ष गणेश गोंडियाल, प्रीतम सिंह, सीएलपी नेता और अन्य लोग पार्टी के मामलों से अवगत कराने के लिए राज्य प्रभारी देवेंद्र यादव से मिलेंगे। पंजाब में जब अमरिंदर सिंह को मुख्यमंत्री पद से हटाया गया था, उस समय रावत पार्टी के मामलों के राज्य प्रभारी थे। उनकी नाराजगी से उत्तराखंड में पार्टी के लिए परेशानी पैदा होने की संभावना है, क्योंकि नारायण दत्त तिवारी और इंदिरा हृदयेश के निधन के बाद उनके पास रावत के अलावा कोई ऐसा चेहरा नहीं है, जिसे पूरे राज्य में नेता माना जाता हो।

(आईएएनएस)

खबरें और भी हैं...