उपराष्ट्रपति चुनाव-2022: उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान से दूर रहेगी तृणमूल

July 21st, 2022

हाईलाइट

  • उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान से दूर रहेगी तृणमूल

कोलकाता, 21 जुलाई। तृणमूल कांग्रेस ने गुरुवार को कहा कि संसद के दोनों सदनों में उसके सांसद 6 अगस्त को होने वाले भारत के अगले उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान से दूर रहेंगे। यह फैसला गुरुवार दोपहर पार्टी सुप्रीमो और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अध्यक्षता में हुई बैठक में लिया गया, जिसमें तृणमूल के 35 में से 33 सांसदों ने भाग लिया।

तृणमूल के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी ने कहा, प्रत्येक सदस्य को मुख्यमंत्री के सामने अपने विचार रखने का मौका दिया गया। इसके बाद बैठक में मौजूद 85 प्रतिशत सांसदों ने उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान से दूर रहने के पक्ष में आवाज उठाई।

उन्होंने कहा कि जहां राजग प्रत्याशी जगदीप धनखड़ को समर्थन देने का सवाल ही नहीं उठता है, तृणमूल को विपक्षी दलों द्वारा तृणमूल नेतृत्व या ममता बनर्जी से परामर्श किए बिना मार्गरेट अल्वा की उम्मीदवारी की घोषणा करने पर कड़ी आपत्ति है।

विपक्षी उम्मीदवार के रूप में कुछ संभावित नामों पर हमारे साथ चर्चा चल रही थी। लेकिन जिस तरह से अचानक एनसीपी प्रमुख शरद पवार के आवास पर कुछ विपक्षी दलों की बैठक बुलाई गई, जिसके बाद मार्गरेट अल्वा के नाम की घोषणा की गई, हम हैरान थे। अभिषेक बनर्जी ने कहा, मार्गरेट अल्वा के खिलाफ हमारे पास कुछ भी नहीं है। ममता बनर्जी के उनके साथ अच्छे संबंध हैं। लेकिन मुद्दा यह है कि उनके नाम की घोषणा तृणमूल नेतृत्व से सलाह के बिना की गई थी।

यह पूछे जाने पर कि क्या तृणमूल के फैसले से देश में भाजपा विरोधी विपक्षी एकता पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ेगा, अभिषेक बनर्जी ने कहा कि विपक्षी एकता इतनी नाजुक नहीं है और यह राष्ट्रपति या उपराष्ट्रपति चुनाव में मतदान पर निर्भर नहीं करती है। उन्होंने कहा, हम इसलिए परहेज कर रहे हैं क्योंकि हमसे सलाह किए बिना विपक्षी उम्मीदवार के नाम की घोषणा का तरीका हमें पसंद नहीं आया। लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि यह घटनाक्रम बड़ी विपक्षी एकता को प्रभावित करेगा।

(आईएएनएस)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.