comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

नए साल में कई चुनौतियों से घिरी है भारतीय फुटबाल टीम

January 07th, 2020 09:20 IST
नए साल में कई चुनौतियों से घिरी है भारतीय फुटबाल टीम

हाईलाइट

  • नए साल में कई चुनौतियों से घिरी है भारतीय फुटबाल टीम

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। भारतीय फुटबाल टीम हर गुजरते वक्त के साथ बेहतर हो रही है लेकिन मैदान पर निरंतरता की कमी उसे पीछे की तरफर खींचती रही है। इसके अलावा कई ऐसी समस्याएं हैं, जिनसे भारतीय टीम अभी जूझ रही है और आने वाले समय में इन समस्याओं के और गहराने के आसार हैं।

भारतीय टीम के सभी खिलाड़ी अभी आईएसएल और आई-लीग में खेलने में व्यस्त हैं। भारत का अगला इंटरनेशनल एसाइन्मेंट 26 मार्च को है, जब वह 2022 फीफा विश्व कप क्वालीफायर में एशियाई चैम्पियन कतर से भिड़ेगी। इसके बाद भारत को चार जून को बांग्लादेश से भिड़ना और फिर नौ जून को अफगानिस्तान से भिड़ना है।

इन तीनों टीमों के खिलाफ भारत बीते साल ड्रॉ खेल चुका है। अफगानिस्तान और बांग्लादेश के खिलाफ उसे जीतना चाहिए था लेकिन रक्षात्मक खेल के कारण वह ड्रॉ को मजबूर हुआ। इससे उसके क्वालीफायर में आगे जाने की सम्भावनाओं को आघात लगा। कतर के खिलाफ ड्रॉ बीते साल और हाल के कुछ वर्षो में भारत की सबसे बड़ी सफलता कही जा सकती है लेकिन इसके अलावा टीम बीते साल कोई और सकारात्मक परिणाम नहीं दे सकी।

भारत ने बीते साल कुल 13 मुकाबले खेले। इनमें से दो में उसकी जीत हुई और चार मुकाबले ड्रॉ रहे। बाकी के मैचों में उसे हार मिली। भारत ने एशियन कप में 6 जनवरी, 2019 को थाईलैंड पर 4-1 की जीत के साथ नए साल की शुरुआत की थी। उस समय स्टीफेन कांस्टेनटाइन भारत के कोच थे। भारत को एशियन कप में 10 जनवरी को संयुक्त अरब अमीरात से 0-2 से हार मिली और फिर 14 जनवरी को बहरीन ने उसे 1-0 से हराया। कांस्टेनटाइन ने इस टूर्नामेंट के बाद कोच पद त्याग दिया।

इसके बाद क्रोएशिया के लिए विश्व कप खेल चुके इगोर स्टीमाक को मुख्य कोच बनाया गया। उनकी देखरेख में भारत ने थाईलैंड में आयोजित किंग्स कप में थाईलैंड को 1-0 से हराकर शानदार शुरुआत की लेकिन उसके बाद वह जीत के लिए तरस गई। इस दौरान उसे कुराकाओ, ताजिकिस्तान, उत्तर कोरिया, ओमान (दो बार) से हार मिली।

भारतीय टीम अभी कई मूलभूत समस्याओं से गुजर रही है। कप्तान सुनील छेत्री को छोड़ दिया जाए तो भारत के पास और कोई स्ट्राइकर नहीं है। लगभग एक दशक से भारत की अपेक्षाओं का भार अपने कंधे पर ढो रहे छेत्री अगर चोटिल हों या फिर खराब फार्म में हों तो भारत के पास उनका सब्सीट्यूट नहीं है।

इस समस्या के खत्म होने के आसार नहीं दिख रहे हैं क्योंकि जमशेदपुर एफसी को छोड़कर आईएसएल के अधिकांश क्लबों में स्ट्राइकर की भूमिका विदेशी खिलाड़ी निभा रहे हैं। कोच स्टीमाक को शिद्दत से एक अच्छे स्ट्राइकर की तलाश है और आईएसएल क्लबों के रवैये के कारण वह तलाश पूरी होती नहीं दिख रही है।

स्टीमाक इस सम्बंध में कई बार बात कर चुके हैं। वे मानते हैं कि आईएसएल एक शानदार प्लेटफार्म है, जहां युवा खिलाड़ियों को सीनियर विदेशी खिलाड़ियों के साथ खेलने और वक्त गुजारने का मौका मिलता है लेकिन नेचुरल स्ट्राइकर्स की कमी को लेकर उनकी चिंता जायज है और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान बाइचुंग भूटिया इस मामले में स्टीमाक से इत्तेफाक रखते हैं।

भूटिया ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, हां, हमारे यहां नेचुरल स्ट्राइकर्स की कमी है। अब हमारे कप्तान और बेहतरीन स्ट्राइकर छेत्री समय के साथ बूढ़े हो रहे हैं और उनका स्थान लेने वाला कोई दिखाई नहीं दे रहा है। यही कारण है कि हमारी टीम मौके तो बना रही है लेकिन उन्हें भुना नहीं पा रही है। हमे इसे गम्भीरता से लेना चाहिए क्योंकि छेत्री के बाद इस क्षेत्र में सूनापन आ जाएगा, जो टीम के लिए हितकर नहीं होगा।

खिलाड़ियों की चोट और उनके ट्रीटमेंट, रीहैब और कुल मिलाकर उनके मैनेजमेंट को लेकर भी भारतीय टीम की तैयारी पूरी नहीं है। स्ट्राइकर जेजे लालपेखलुवा और डिफेंडर संदेश झिंगन लम्बे समय से चोटिल हैं। 2019 में आधे साल तक ये नहीं खेले। ऐसे में अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ को खिलाड़ियों के ट्रीटमेंट के नए साधनों और बेहतर मैनेजमेंट के बारे में सोचना होगा। झिंगन और जेजे हालांकि इस साल वापसी कर रहे हैं लेकिन उनकी गैरमौजूदगी में टीम को पहली ही काफी नुकसान हो चुका है।

नेचुरल स्ट्राइकर की कमी और डिफेंस की अनुभवहीनता के कारण ही स्टीमाक की देखरेख में भारतीय टीम ने नौ मैचों में 10 गोल किए हैं लेकिन 18 गोल खाए हैं।

भूटिया हालांकि आंकड़ों पर ध्यान नहीं देते। भूटिया ने कहा कि स्टीमाक की देखरेख में भारतीय टीम के खेल के स्तर में सुधार आ रहा है लेकिन उसे अपनी निरंतरता पर ध्यान देना होगा और लगातार मैच जीतने होंगे।

भूटिया ने कहा, मुझे इस बात की खुशी है कि हमारी टीम अच्छी फुटबाल खेल रही है। इसे लेकर मैं आश्वस्त हूं। यह टीम एक इकाई के तौर पर खेल रही है। कुछ मैच हमारे लिए दुर्भाग्यपूर्ण रहे लेकिन इसके बावजूद मैं चिंता वाली कोई बात नहीं देख रहा हूं। हमें लगातार मैच जीतने होंगे। इससे खिलाड़ियों मे आत्मबल आएगा। कतर जैसी टीम से ड्रॉ खेलने के बाद हम बांग्लादेश और अफगानिस्तान से भी ड्रॉ खेलते हैं। यह खेल में कमी नहीं सोच में कमी का नतीजा है।

कमेंट करें
Xj3tA
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।