दैनिक भास्कर हिंदी: दिल्ली की गोशाला में 36 गायों की मौत, केजरीवाल सरकार ने दिए जांच के आदेश

July 27th, 2018

हाईलाइट

  • दिल्ली के छावला इलाके के घुमनहेडा गांव की गोशाला में बीते दो दिनों में 36 गायों की मौत हो गई है।
  • मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली सरकार ने जांच के आदेश दिए है।
  • पशुचिकित्सकों की एक टीम को इसका जिम्मा दिया गया है। गायों का पोस्टमॉर्टम भी कराया जा रहा है।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में गोरक्षा और इसकी आड़ में मॉब लिंचिग को लेकर बवाल मचा हुआ है। इस बीच देश की राजधानी दिल्ली से चौंकाने वाली खबर सामने आई है। दिल्ली के छावला इलाके के घुमनहेडा गांव की गोशाला में बीते दो दिनों में 36 गायों की मौत हो गई है। गायों की मौत का कारण फिलहाल पता नहीं चल पाया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली सरकार ने जांच के आदेश दिए हैं। पशुचिकित्सकों की एक टीम को इसका जिम्मा दिया गया है। गायों का पोस्टमॉर्टम भी कराया जा रहा है। गायों की मौत की खबर मिलने के बाद पुलिस की टीम भी मौक पर पहुंच गई।

 

 

गायों के लिए पर्याप्त चारा-पानी नहीं
ये गोशाला आचार्य सुशील कुमार गोसदन ट्रस्ट की है जो करीब 9 एकड़ में फैली हुई है। गुरुछाया नाम की महिला इस गोशाला की केयरटेकर है। यहां पर वह कभी कभी आती है। यहां के एक कर्मचारी सलीम ने बताया कि इस गोशाला में करीब 2500 गाय रहती हैं। लेकिन इतनी गायों के लिए यहां पर पर्याप्त चारा और पानी नहीं है। सबसे बड़ी बात की इतनी संख्या में गाय होने के बाद भी यहां कोई डॉक्टर नहीं है। बीते दो दिनों से यहां पर पानी की मोटर भी खराब थी, कई बार कहने के बाद भी किसी ने उनकी बात नहीं सुनी। सलीम कहते हैं कि बीते एक हफ्ते में गोशाला में कई गायों की मौत हुई है। एक अन्य कर्मचारी ने बताया कि जब यहां की केयरटेकर को गाय की मौत के बारे में बताया गया तो उन्होंने सभी को चुप रहने को कहा।

सीकर में भी 20 गायों की मौत
नियमों के मुताबिक गायों की मौत होने पर शव को ले जाने की जिम्मेदारी एमसीडी की है, लेकिन यहां पर कोई भी एमसीडी कर्मचारी गायों के शव को लेने नहीं पहुंचा। जिसके बाद दूसरी गायों में बीमारी न फैले इसे देखते हुए गायों को वहीं पर गड्ढा खोदकर दफना दिया गया। उधर राजस्थान के सीकर जिले में भी एक गौशाला में 20 गायों की मौत हो गई। इस गोशाला में 380 गाय हैं।