वीडियो वायरल: अभिजीत वंजारी पर मनपा के इंजीनियर को धमकाने का लगा आरोप

July 25th, 2022

डिजिटल डेस्क, नागपुर।  सरकार की विकास निधि के उपयोग को लेकर मनपा के अधिकारी के विधायक अभिजीत वंजारी का एक ऑडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इसमें विधान परिषद सदस्य अभिजीत वंजारी मनपा के एक कनिष्ठ अभियंता को गालियां देते हुए उन्हें धमका रहे हैं। हालांकि वंजारी का कहना है कि संवाद में उनकी आवाज नहीं है। मामले से उनका कोई संबंध नहीं है। यह प्रकरण मनपा आयुक्त राधाकृष्णन बी. तक पहुंचा है। उन्होंने अधिकारियों की बैठक लेकर मामले की जानकारी ली है, लेकिन खुलकर कुछ भी नहीं कहा जा रहा है। भाजपा ने इस मामले को लेकर कांग्रेस नेताओं पर तंज कसना शुरू कर दिया है।

यह है मामला : सोशल मीडिया पर एक ऑडियाे क्लिप वायरल की गई है। क्लिप में संवाद के आरंभ से ही विधायक अधिकारी को अश्लील गालियां देते हुए सुनाई दे रहे हैं। उसमें चव्हाण नामक अधिकारी के बारे में आपत्ति जनक शब्दों का उपयोग किया गया। जोर देकर कहा गया है-मेरा फंड है, कोई माई का लाल, हाथ नहीं लगाएगा। जाओे पुलिस थाने में मेरे खिलाफ कंपलेंट दे दो। अधिकारी निवेदन करते रह जाता है कि उसे डाक से फाइल आई थी। उस फाइल को लेकर ही अश्लील गालियों में हिदायत दी जा रही है। इस मामले को लेकर मनपा प्रशासन में भी हलचल है। सूत्र के अनुसार पूर्व नागपुर में विकास कार्य को लेकर राजनीति गर्माने लगी है। जिस फाइल पर चर्चा की जा रही है वह भी पूर्व नागपुर से संंबंधित है। शासकीय निधि के इस्तेमाल के लिए अलग अलग दावे किए जा रहे हैं। सरकारी निधि के इस्तेमाल के लिए सिफारिश या आवश्यकता का जिक्र नहीं करने को लेकर भी जनप्रतिनिधियों में मतभेद  बढ़ रहा है। 

पहले भी रहे चर्चा में  : विकास मामले को लेकर विधानपरिषद सदस्य वंजारी पहले भी चर्चा में रहे हैं। शांतिनगर क्षेत्र में फलक से नाम मिटाकर अपना नाम लिखवाने के आरोप में वंजारी के विरोध में शिकायत तक दी गई थी। आरोप था कि विधायक कृष्णा खोपड़े की विकास निधि से लगाई गई सार्वजनिक बेंच से खोपड़े का नाम मिटाकर वंजारी ने अपना नाम लिखवाया था। 

अधिकारी मौन : ऑडियो क्लिप में जिस अधिकारी से चर्चा की जा रही है, वह मनपा का कनिष्ठ अभियंता है। दैनिक भास्कर ने फोन पर संपर्क करने का प्रयास किया लेकिन फोन रिसीव नहीं किया गया। अन्य अधिकारी ने नाम नहीं छापने की शर्त पर बताया कि संबंधित अधिकारी धमकी से बुरी तरह डरा हुआ है। इस किसी भी तरह की राजनीति से बचने के लिए अधिकारी खुलकर कुछ नहीं बोल पा रहे हैं।

मनपा आयुक्त एक्शन लें : खोपड़े : ऑडियो संवाद के बारे में जानकारी मिलने पर मैंने मनपा आयुक्त से भी चर्चा की है। मनपा अधिकारी पर दबाव डालने का यह मामला गंभीर है। मनपा आयुक्त को इस मामले में एक्शन लेना चाहिए। विकास कार्य के लिए कई बार सख्त लहजे का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन विधान परिषद सदस्य के शब्द अशोभनीय हैं। कांग्रेस के नेताओं को भी उन्हें सीख देनी चाहिए। सार्वजनिक जीवन में शब्दों की सीमा का ध्यान रखा जाना चाहिए। -कृष्णा खोपड़े, विधायक 

मेरी आवाज नहीं : वंजारी : ऑडियो क्लिप में जो आवाज सुनाई दे रही है, वह मेरी नहीं है। कोई जान-बूझकर इस तरह का दुष्प्रचार कर रहा है। छवि खराब करने का प्रयास है। मैंने किसी अधिकारी पर दबाव नहीं डाला है।  -अभिजीत वंजारी, विधानपरिषद सदस्य