महाराष्ट्र राजनीतिक संकट : उद्धव ठाकरे खुद कार चलाकर राजभवन पहुंचे, राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को अपना इस्तीफा सौंपा, देर रात बागी विधायक पणजी के ताज होटल पहुंचे

June 30th, 2022

डिजिटल डेस्क मुंबई, मनुज भारद्वाज, राजा वर्मा, अनुपम तिवारी। महाराष्ट्र में सियासी महासंग्राम के बीच जहां उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात के बाद अपने पद से इस्तीफा सौंंप दिया है। तो वहीं दूसरी तरफ बीजेपी महाराष्ट्र में सरकार बनाने की कवायद शुरू कर दी है। देर रात बागी विधायक गुवाहाटी से गोवा के पणजी में स्थिति ताज होटल पहुंचे हैं। इन बागी विधायकों के साथ गोवा के सीएम प्रमोद सावंत खुद मौजूद हैं। बताया जा रहा है कि कल सुबह ही बागी विधायक मुंबई पहुंच जाएंगे। अब महाराष्ट्र में अगर कोई बाधा नहीं उत्पन्न होती है तो बीजेपी की सरकार बनना लगभग तय माना जा रहा है।

महाराष्ट्र में जारी सियासी संकट के बीच उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात कर अपना इस्तीफा सौंपा। राज्यपाल ने उद्धव ठाकरे का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है। इस दौरान राज्यपाल कोश्यारी ने वैकल्पिक व्यवस्था होने तक उद्धव ठाकरे को मुख्यमंत्री पद पर बने रहने के लिए कहा है। 

राज्यपाल को इस्तीफा देने के बाद उद्धव ठाकरे राजभवन के पास बनीं मंदिर में जाकर पूजा की। इस दौरान उद्धव ठाकरे के बेटे आदित्य ठाकरे व तेजस भी मौजूद रहे। सैकड़ों की तादाद में उद्धव ठाकरे के समर्थक भी राजभवन पहुंचे थे। उद्धव ठाकरे के समर्थन में उनके समर्थकों ने जबरदस्त नारेबाजी की। महाराष्ट्र में ढ़ाई साल बाद बीजेपी एक बार फिर सरकार बनाने जा रही है।

मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने के बाद उद्धव ठाकरे राजभवन पहुंच चुके हैं। यहां पर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात के बाद वह अपना इस्तीफा सौंपा। उद्धव ठाकरे खुद कार चलाकर राजभवन पहुंचे। कार में उनकी बगल वाली सीट पर उनके बेटे आदित्य ठाकरे भी बैठे देखें गए हैं। आखिकार आज महाराष्ट्र की सियासत में एक अध्याय का अंत हो चुका है। खबर आ रही है कि बीजेपी नेता देवेंद्र फडणवीस 1 जुलाई को सीएम के पद का शपथ ले सकते हैं।

महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे ने सीएम पद से इस्तीफे का ऐलान कर दिया है। उन्होंने फेसबुक लाइव पर अपने संबोंधन में कहा कि उनको सीएम की कुर्सी का कोई मोंंह नहीं है न ही कभी था। ठाकरे ने सीएम पद के साथ ही विधान परिषद् से भी इस्तीफा दे दिया है। ठाकरे ने इस्तीफे का ऐलान सुप्रीम कोर्ट का फैसला सुनाए जाने के बाद किया है। कोर्ट ने दायर की गई याचिका पर   फैसला सुनाते हुए कहा था कि फ्लोर टेस्ट तय समय पर ही होगा।कल फ्लोर टेस्ट होना था लेकिन उससे पहले ही उद्धव ठाकरे ने सीएम पद से  इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया है। उद्धव ने सोनिया गांधी और शरद पवार को शुक्रिया कहा। 

 

नहीं चाहता शिवसैनिकों का खूंन बहे 

ठाकरे ने कहा मैं नहीं चाहता कि कल शिवसैनिकों का खून बहे और वह सड़क में उतरें। इसलिए मैं सीएम की कुर्सी छोड़ रहा हूं।
 

बता दें शिवसेना की ओर से याचिका दायर की गई थी जिस पर कोर्ट ने फैसला सुनाया है।  कल महाराष्ट्र में फ्लोर टेस्ट होगा या नहीं इस पर कोर्ट ने पूर्ण विराम लगा दिया और कहा कि तय समय में ही  फ्लोर टेस्ट होगा। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद यह तय हो गया है कि कल बहुमत परीक्षण होगा जिसमें उद्धव ठाकरे की सरकार बनी रहेगी या नहीं इसका फैसला होना है। सीएम उद्धव ठाकरे फेसबुक पर लाइव है। 

  • सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई जारी है शिंदे गुट की दलीलें कोर्ट में पूरी हो चुकी है। वहीं बहुमत परीक्षण पर निर्णय आने से होने से पहले ही मुंबई में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। 
  • सूत्रों की मानें तो अगर फ्लोर टेस्ट की नौबत आती है तो उससे पहले ही उद्धव ठाकरे सीएम पद से इस्तीफा दे सकते हैं।

  • हाल ही में उद्धव ठाकरे का बयान सामने आया है जिसमें उन्होंने कहा कि अपनों ने धोखा दिया है।  

  • शिंदे गुट के वकील ने कोर्ट में सुनवाई के दौरान अपनी दलील देते हुए कहा कि फ्लोर टेस्ट नहीं रोका जा सकता। साथ ही कहा कि शिवसेना के पास संख्या नहीं लेकिन सत्ता पकड़े रहना चाहती है। उन्होंने आगे कहा कि आपके पास संख्या नहीं तो हारेंगे। 
  • महाविकास अघाड़ी गठबंधन सरकार की तरफ से अभिषेक मनु सिंघवी पक्ष रख रहे है। वहीं शिंदे गुट की तरफ से नीरज किशन कौल सुप्रीम कोर्ट पर अपनी दलील पेश कर रहे है।  सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई के दौरान कहा की बहुमत का फैसला सदन पर ही हो सकता है। 
  • सुनवाई के दौरान जज ने पूछा कि क्या बागी विधायक विपक्ष की सरकार बनवाना चाहते हैं? इस सवाल का जवाब देते हुए सिंघवी ने कहा जी हां! बिल्कुल, सिंघवी ने बताया कि चिट्ठी में उन्होंने यही लिखा है.
  •  सिंघवी ने शिंदे गुट के बागी विधायको पर सवाल उठाते हुए कहा कि जिन लोगों ने पाला बदल लिया वे लोगों की इच्छा का प्रतिनिधित्व नहीं करते हैं। आगे उन्होंने कहा कि राज्यपाल को कोर्ट के आदेश आने तक प्रतीक्षा करनी चाहिए थी। वहीं महाराष्ट्र सरकार की तरफ से दलील पेश करने वाले सिंघवी ने फ्लोर टेस्ट को लेकर राज्यपाल के द्वारा दिए गए निर्देश को लेकर कहा कि अगर कल फ्लोर टेस्ट नहीं हुआ तो कोई आसमान नहीं टूट पड़ेगा। 

अपडेट जारी है.....

उद्धव कैबिनेट की आखिरी बैठक!

सुप्रीम कोर्ट में चल रही सुनवाई के बीच उद्धव सरकार की कैबिनेट बैठक भी हुई इस बैठक में महाराष्ट्र के कुछ जिलों के नाम बदलने का निर्णय लिया गया है। मीटिंग में औरंगाबाद का नाम अब संभाजी नगर और उस्मानाबाद जिले का नाम धाराशिव करने का फैसला लिया गया है। 

महाराष्ट्र का सियासी संग्राम हर बार अपने अंजाम तक पहुंचते पहुंचते रह जाता है। फिर कोई ऐसा ट्विस्ट आता है कि मामला खिंचता हुआ लगता है।कुछ ही समय पहले खबर आई थी कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने गुरूवार को सत्र बिलाने के लिए कह दिया है। लेकिन अब इसमें भी पेंच फंस गया है। कम से कम आज शाम पांच बजे तक के लिए। दरअसल शिवसेना ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। शिवसेना की दलील है कि जब तक अयोग्य विधायकों पर फैसला नहीं हो जाता तब तक विधानसभा का सत्र कैसे हो सकता है। पार्टी की इस याचिका पर शाम पांच बजे सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई होनी है।

विपक्ष ने फ्लोर टेस्ट की मांग कर दी है। उधर,  महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने भी गुरुवार को विधानसभा सत्र बुला लिया है। राज्यपाल ने साफ किया है कि इसका एजेंडा सीएम के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव है। फ्लोर टेस्ट कल सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक किया जा सकता है। 

राज्यपाल ने आगे कहा है कि प्रदेश की राजनीतिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं है। शिवसेना के 39 विधायक पहले ही महा विकास अघाड़ी गठबंधन से अलग होने की बात कह चुके हैं जबकि 7 निर्दलीय विधायकों ने ईमेल भेजकर उद्धव सरकार से समर्थन वापस ले लिया है। 

राज्यपाल ने बताया कि विपक्ष के नेता भी उनसे मिले हैं और फ्लोर टेस्ट की मांग उठाई है। 

कल मुंबई आएंगे एकनाथ शिंदे 

बागी विधायकों के साथ गुवाहाटी के होटल रैडिसन ब्लू में मौजूद एकनाथ शिंदे ने शहर के कामाख्या मंदिर के दर्शन किए। इसके बाद मीडिया से बात करते हुए शिंदे ने बताया कि हम लोग कल मुंबई जाएंगे और फ्लोर टेस्ट में हिस्सा लेंगे। वह बोले कि मंदिर में उन्होंने महाराष्ट्र के लोगों के लिए प्रार्थना की। 

खबरें और भी हैं...