वार्षिक आम बैठक: दिल्ली जिमखाना क्लब के सदस्यों ने लेखा नीति में बदलाव के खिलाफ किया मतदान

December 24th, 2021

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली जिमखाना क्लब के सदस्यों ने हाल ही में आयोजित वार्षिक आम बैठक (एजीएम) में क्लब की लेखा नीति में बदलाव के खिलाफ मतदान किया है। क्लब के सदस्य केंद्र द्वारा नियुक्त प्रशासक के साथ कड़ी लड़ाई लड़ रहे हैं। इस समय क्लब के मामलों का प्रबंधन प्रशासक के जिम्मे है।

क्लब के कुछ सदस्यों ने नाम जाहिर न करने की शर्त पर कहा कि 90 प्रतिशत से अधिक सदस्यों ने लेखांकन नीति में प्रस्तावित परिवर्तनों के खिलाफ मतदान किया। भंग सामान्य समिति (जीसी) के सदस्यों सहित कई सदस्यों ने पिछले छह वर्षो के सभी पिछले लेखा परीक्षकों के साथ-साथ वर्तमान लेखा परीक्षकों द्वारा विधिवत अनुमोदित लेखांकन नीति में बदलाव का विरोध किया है, जिसका कई दशकों से पालन किया जा रहा है।

क्लब के एक सदस्य ने कहा कि नया प्रबंधन 2009-10 से 2019-20 तक 127.78 करोड़ रुपये के काल्पनिक नुकसान को मुफ्त भंडार से स्थानांतरित करने का इरादा रखता है, जो भविष्य की सामान्य समिति (जीसी) को खर्चो को पूरा करने के लिए उपलब्ध नहीं होगा।

एक अन्य सदस्य ने कहा कि यदि खातों को मंजूरी दी जाती है, तो क्लब के सदस्यों को मासिक सदस्यता में 5 गुना वृद्धि और भोजन और पेय की कीमतों में कई गुना वृद्धि के अलावा तैराकी, स्क्वैश, टेनिस आदि के लिए शुल्क में वृद्धि का भुगतान करना होगा।

क्लब के सदस्यों को भेजे गए एक पत्र में कहा गया है, इसका शुद्ध प्रभाव यह होगा कि क्लब का लाभ और हानि खाता नुकसान दिखाएगा और घाटे में चलने वाली इकाई के रूप में प्रस्तुत किया जा सकता है, ताकिक्लब का सरकार द्वारा अधिग्रहण की वजह मिल जाए।

आगे इसके परिणामस्वरूप कथित धोखाधड़ी और गंभीर वित्तीय अनियमितताओं के लिए सभी पूर्व अध्यक्षों और जीसी को गलत तरीके से आरोपित किया जाएगा, जबकि क्लब ने पिछले कई दशकों में इस लेखांकन प्रक्रिया को अपनाने के बाद कभी भी कोई अनियमितता नहीं की है।

एक सदस्य ने कहा कि प्रशासक को लेखांकन प्रक्रियाओं को बदलने का कोई अधिकार नहीं है, क्योंकि उसे केवल क्लब का प्रबंधन करने का काम सौंपा गया है न कि उसकी नीतियों में बदलाव करने का। उन्होंने पत्र में आगे लिखा, इसलिए, हम आपसे अनुरोध करते हैं कि कृपया एजीएम में उस प्रस्ताव का विरोध करें, जिसे लेखा और निदेशक की रिपोर्ट पारित करने के लिए रखा गया है।

एक सदस्य के अनुसार, अगले कदम के तौर पर प्रशासक ओम पाठक, जो यूपी कैडर के पूर्व आईएएस अधिकारी हैं, को खातों को सही करना और उनका ब्योरा स्थगित एजीएम में फिर से सदस्यों के सामने पेश करना चाहिए।

जब कॉर्पोरेट मामलों के मंत्रालय ने नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल से क्लब में भ्रष्टाचार, कुप्रबंधन और भाई-भतीजावाद की शिकायत की, तब ट्रिब्यूनल ने इस साल 15 फरवरी को क्लब के जीसी को भंग कर दिया और केंद्र को अपने मामलों के प्रबंधन के लिए एक प्रशासक नियुक्त करने का निर्देश दिया।

क्लब की पूर्व जनरल कमेटी को एक बड़ी राहत देते हुए सुप्रीम कोर्ट ने एनसीएलएटी के आदेश के खिलाफ दायर अपीलों पर सुनवाई करते हुए 30 सितंबर को इस मामले को वापस नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल को भेज दिया और इसे चार महीने के भीतर निपटाने के लिए कहा।

 

(आईएएनएस)

खबरें और भी हैं...