दैनिक भास्कर हिंदी: सियासी बवाल: किरण बेदी पुडुचेरी की लेफ्टिनेंट गवर्नर के पद से हटाई गईं, तेलंगाना की राज्यपाल को सौंपा प्रभार

February 16th, 2021

डिजिडल डेस्क, पुडुचेरी। पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव के पहले बड़े सियासी उलटफेर के संकेत मिल रहे हैं। केंद्र सरकार ने मंगलवार शाम को किरण बेदी को पुडुचेरी के उपराज्यपाल के पद से हटा दिया है। राष्ट्रपति भवन से जारी विज्ञप्ति के अनुसार राष्ट्रपति ने निर्देश दिया है कि डॉ किरण बेदी पुडुचेरी का उपराज्यपाल नहीं रहेंगी। तेलंगाना की राज्यपाल डॉ. तमीलीसाई सुंदरराजन को को पुडुचेरी के उप-राज्यपाल की अतिरिक्त जिम्मेदारी दी है। बेदी को हटाने का फैसला क्यों किया गया, यह अभी पता नहीं चला है।

राष्ट्रपति के प्रेस सचिव अजय कुमार ने एक बयान में कहा कि राष्ट्रपति ने निर्देश दिया है कि डॉ. किरण बेदी अब पुडुचेरी की उपराज्यपाल नहीं रहेंगी। उन्होंने तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सौंदर्यराजन को अपने दायित्वों का निर्वहन करने के साथ ही पुडुचेरी के उपराज्यपाल की जिम्मेदारी निभाने के लिए नियुक्त किया है। यह नई जिम्मेदारी उनके नए उपराज्यपाल के पदभार ग्रहण करने के बाद से प्रभावी हो जाएगी और वह पुडुचेरी के उपराज्यपाल की नियमित व्यवस्था कर लिए जाने तक इस पद पर रहेंगीं।

अपनी बर्खास्तगी से कुछ ही घंटे पूर्व किरण बेदी सरकारी काम में लगी थीं। किरण बेदी ने ट्वीट कर एक वीडियो भी जारी किया था। उन्होंने लिखा था कि पुडुचेरी में कोरोना वैक्सीनेशन कम क्यों है इसकी जानकारी ले रही हूं।

राहुल के दौरे से पहले अल्पमत में कांग्रेस सरकार
बता दें कि इससे पहले, सोमवार और मंगलवार को 2 मंत्रियों समेत 4 विधायकों ने वी नारायणसामी के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार से इस्तीफा दे दिया था। इन इस्तीफों के बाद राज्य की कांग्रेस सरकार अल्पमत में आ गई है। विधानसभा में कांग्रेस विधायकों की संख्या 15 से घटकर 10 हो गई है। हालांकि, कांग्रेस गठबंधन की बात करें तो विधानसभा में सरकार और विपक्षी दलों के विधायकों की संख्या 14-14 हो गई है। पुडुचेरी विधानसभा में कुल 33 सीटें हैं। इनमें 30 पर चुनाव होता है, जबकि 3 सीटों पर विधायकों का मनोनयन होता है।

इस्तीफा देने वालों में से दो ने ज्वाइन की BJP
इस्तीफा देने वालों में विधायक ए जॉन कुमार, ए नमस्सिवम, मल्लादी कृष्णा राव और ई थेपयन्थन शामिल हैं। इनके अलावा कांग्रेस विधायक एन धनवेलु को पार्टी विरोधी गतिविधियों में शामिल होने के कारण अयोग्य घोषित कर दिया गया। इनमें नमस्सिवम और थेपयन्थन भाजपा में शामिल हो चुके हैं, बाकी नेता भी जल्द ही BJP में जा सकते हैं। खास बात ये है कि बुधवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी पुडुचेरी दौरे पर पहुंचने वाले हैं, उससे पहले ही यह घटनाक्रम हुआ। सरकार के पास से 4 विधायकों के छिटकने के बाद विपक्षी दलों ने फ्लोर टेस्ट की मांग करते हुए वी नारायणसामी से इस्तीफा देने को कहा है। राज्य में इसी साल मई में चुनाव होने हैं।