comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

App: Remove China Apps को गूगल ने प्ले स्टोर से हटाया, कुछ ​दिनों में हुआ था जबदस्त डाउनलोड

App: Remove China Apps को गूगल ने प्ले स्टोर से हटाया, कुछ ​दिनों में हुआ था जबदस्त डाउनलोड

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। चीन और भारत में सीमा पर चल रहे तनाव के समय हाल ही में बेहद पॉप्युलर हुए'रिमूव चाइना ऐप (Remove China App) को गूगल प्ले स्टोर ने हटा दिया है। यह ऐप चीन में डिवेलप किए गए ऐप्स को स्कैन करने और स्मार्टफोन से Uninstall करने का काम करता था। बता दें कि इस एप को भारत में एक जयपुर स्थित स्टार्टअप ने बीते माह 17 तारीख को लॉन्च किया था। 

OneTouchAppLabs द्वारा विकसित इस ऐप का फिलहाल सिर्फ एंड्रॉइड वर्जन ही उपलब्ध था। यह ऐप Google Play Store पर 4.9 यूजर्स रेटिंग मिली हुई थी। Remove China App ने महज कुछ ​ही दिनों में जबरदस्त लोकप्रियता हासिल की थी।

Nokia ने भारत में लॉन्च किया 43 इंच स्मार्ट टीवी, इसमें है JBL ऑडियो और डॉल्बी विजन का सपोर्ट

बता दें कि इस एप को चाइना बॉयकॉट अभियान के तहत देखा जा रहा था। एप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया गया था। लेकिन हाल ही में 'वनटचऐपलैब्स' ने ट्वीट कर रिमूव चाइन ऐप को प्ले स्टोर से हटाए जाने की जानकारी दी है। 

वनटचऐपलैब्स ने ट्वीट किया, 'दोस्तों, गूगल ने #RemoveChinaApps को प्ले स्टोर से सस्पेंड कर दिया है। दो सप्ताह तक इसे सपोर्ट करने के लिए बहुत धन्यवाद।  

क्यों हटाया
हालांकि, कंपनी ने अभी तक साफ नहीं किया है कि इस एप को प्ले-स्टोर से क्यों हटाया गया है। वहीं टेक क्रंच की रिपोर्ट में कहा गया है कि गूगल ने रिमूव चाइना एप को प्ले-स्टोर से इसलिए हटाया है, क्योंकि इसने भ्रामक व्यवहार नीति का उल्लंघन किया है। इस पॉलिसी के तहत कोई भी यूजर डिवाइस की सेटिंग या फिर एप के फीचर्स में बदलाव नहीं कर सकता है। साथ ही अन्य एप्स को रिमूव भी नहीं कर सकता है। 

TUF/ROG laptop: Asus ने भारत में लॉन्च किए गेमिंग लैपटॉप और डेस्कटॉप, जानें कीमत

ऐसे काम करता था काम
- Remove China Apps का इंटरफेस काफी साधारण है।
- इसमें 'Scan Now' पर टैप करने पर फोन में मौजूद चीनी ऐप दिख जाते हैं।
- यह सभी चीनी ऐप्स की एक लिस्ट तैयार कर देता है।
- यदि आप लिस्टेड ऐप्स में से कोई ऐप रिमूव करना चाहते हैं तो Delete आइकन पर टैप कर सकते हैं।
- इसके बाद Remove China Apps आपके फोन में से उस ऐप को डिलीट कर देता है।

कमेंट करें
nmp7C
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।