comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Price Cut: Samsung Galaxy A51 की कीमत में भारी कटौती, जानें नई कीमत और ऑफर 

Price Cut: Samsung Galaxy A51 की कीमत में भारी कटौती, जानें नई कीमत और ऑफर 

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। स्मार्टफोन निर्माता कंपनी Samsung (सैमसंग) ने अपने Galaxy A51 (गैलेक्सी ए51) की कीमत में भारी कटौती की है। भारत में अब यह स्मार्टफोन 2,000 रुपए सस्ता मिलेगा। बता दें कि इस फोन को भारत में साल की शुरुआत में लॉन्च किया गया था और यह दुनिया का सबसे ज्यादा बिकने वाला स्मार्टफोन है।यह स्मार्टफोन ब्लू, वाइट, ब्लैक प्रिज्म क्रश कलर में उपलब्ध है।

दो वेरिएंट में आने वाले इस फोन की 8GB रैम वेरियंट में 2,000 रुपए की कटौती की गई है, जिसके बाद इसकी कीमत 25,999 रुपए हो गई है। वहीं इसका 6GB रैम वेरियंट पुरानी कीमत पर लिस्ट किया गया है। इसकी कीमत 23,999 रुपए है। ऑफर के तहत यदि आप एचएसबीसी या एसबीआई के क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करते हैं तो 1,500 रुपए तक का कैशबैक भी मिलेगा।

Samsung Galaxy Note 20 और Galaxy Note 20 Ultra की प्री-बुकिंग भारत में शुरू

स्पे​सिफिकेशन और फीचर्स
इस स्मार्टफोन में 6.5 इंच की फुल HD+ सुपर एमोलेड Infinity-O पंच होल डिस्प्ले दी गई है। यह डिस्प्ले 1080x2400 पिक्सल का रेज्यूलेशन देती है। इसका स्क्रीन आस्पेक्ट रेशियो 20:9 है। इस फोन में इन- डिस्प्ले फिंगरप्रिंट सेंसर भी दिया गया है।  

फोटोग्राफी के लिए इस फोन में क्वॉड कैमरा सेटअप दिया गया है। इसमें 48 मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा दिया गया है। इसके अलावा 5 मेगापिक्सल का डेप्थ कैमरा, 5 मेगापिक्सल का मैक्रो कैमरा और 12 मेगापिक्सल का अल्ट्रा-वाइड कैमरा दिया गया है। वहीं सेल्फी और वीडियो कॉलिंग के लिए इस फोन में 32 मेगापिक्सल का कैमरा दिया गया है।

भारत सरकार ने Mi Browser Pro और Baidu को बैन किया

इस स्मार्टफोन में 6GB रैम और 128GB इंटरनल स्टोरेज दी गई है। आवश्यकता पड़ने पर माइक्रोएसडी कार्ड के जरिए इस फोन के स्टोरेज को 512GB तक बढ़ाया जा सकता है। पावर के लिए इस फोन में 4,000 mAh की बैटरी दी गई है, जो कि 15W फास्ट चार्जिंग के साथ आती है। 

यह स्मार्टफोन Android 10 पर बेस्ड One UI पर रन करता है। इसमें 2.3GHz पर चलने वाला ऑक्टा-कोर 10nm Exynos 9611 प्रोसेसर दिया गया है, जो कि AI पावर्ड गेम बूस्टर के साथ आता है। यह फ्रेम रेट और स्टेबिलिटी को बेहतर करने के साथ ही गेम खेलने के दौरान पावर कंज्म्पशन को घटाता है।

कमेंट करें
DVYvx
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।