comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Bajaj Pulsar Classic 150 इंडिया में हुई लॉन्च, जानें कीमत

June 14th, 2018 10:21 IST
Bajaj Pulsar Classic 150 इंडिया में हुई लॉन्च, जानें कीमत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। बजाज पल्सर रेन्ज में एक और बाइक शामिल की गई है, इस बार Bajaj ने Pulsar Classic 150 देश में लॉन्च की है जिसकी मुंबई में एक्सशोरूम कीमत 67,437 रुपये है। Pulsar Classic 150 को नई पल्सर पर बनाया गया है और इसकी कीमत को कम रखने के लिए कंपनी ने बाइक के किसी भी फीचर को कम नहीं किया है। कंपनी ने Pulsar Classic 150 की कीमत को कम ही रखा है और फिलहाल बजाज ने इस बाइक को सिर्फ महाराष्ट्र में लॉन्च किया है, जल्द ही बाकी राज्यों में भी ये बाइक पहुंचाई जाने लगेगी। स्टैंडर्ड बजाज पल्सर 150 के ट्विन डिस्क ब्रेक मॉडल से तुलना करें तो पल्सर 150 क्लासिक लगभग 10,120 रुपये सस्ती है।

Image result for bajaj pulsar classic 150

ये भी पढ़ें : Suzuki burgman street 125 जल्द होगी लॉन्च, TVC शूट के दौरान हुई स्पॉट

बजाज ऑटो की इन बाइक्स में कीमत में अंतर को देखकर अंदाजा लगाया जा सकता है कि कंपनी कम कीमत में बेहतर बाइक्स उपलब्ध करा रही है। बजाज की वेबसाइट पर फिलहाल ये मॉडल अपडेट नहीं हुआ लेकिन हमें पता है ये बाइक शोरूम्स पर पहुंच चुकी है। फिलहाल बजाज पल्सर 150 क्लासिक को सिर्फ ब्लैक कलर में उपलब्ध कराया गया है। बाइक के सभी पुर्जे भी ब्लैक कलर में हैं और हमें लगता है इसीलिए बाइक का नाम क्लासिक रखा गया है। इस कीमत के साथ बजाज पल्सर 150 क्लासिक पल्सर 150 रेन्ज की एंट्री लेवल या कहें तो सबसे सस्ती बाइक बन गई है। इसके बाद दूसरे नंबर की सबसे सस्ती पल्सर 135 एलएस है।

ये भी पढ़ें : Tata H5X का प्रोटोटाइप टेस्टिंग के दौरान स्पॉट, कार में होगा कंपस का इंजन

Related image

ये भी पढ़ें : Aston Martin ने DBX SUV पर शुरू किया काम, जानें कब होगी लॉन्च

बजाज पल्सर 150 क्लासिक में बाकी पल्सर 150 बाइक्स के जैसा इंजन दिया गया है। कंपनी ने बाइक में 149cc का सिंगल-सिलेंडर इंजन लगाया है जो 8000 rpm पर 14 bhp पावर और 6000 rpm पर 13.4 Nm पीक टॉर्क जनरेट करने की क्षमता रखता है। फीचर्स की बात करें तो बजाज ने बाइक के चेसिस, गियरबॉक्स और सस्पेंशन को समान रखा है। बजाज ने 3-टियर सिटी को अपना लक्ष्य बनाया है क्योंकि कंपनी को भी पता है यहीं से ज्यादा से ज्यादा ग्राहकों को पाया जा सकता है। यही वजह है कि बाइक की कीमत को भी काफी कम रखा गया है। इंडिया में इस मोटरसाइकल का मुकाबला हीरो अचीवर और होंडा यूनिकॉर्न जैसी बाइक्स से होगा।

कमेंट करें
4AkES
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।