comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

MINI पैडी हॉपकिर्क एडिशन भारत में लॉन्च, जानें कितनी है खास

MINI पैडी हॉपकिर्क एडिशन भारत में लॉन्च, जानें कितनी है खास

हाईलाइट

  • एक्स-शोरूम कीमत 41,70,000 रुपए रखी गई है
  • इस कार की सिर्फ 15 यूनिट्स उपलब्ध हैं
  • कंप्लीटली बिल्ट-अप यूनिट के तौर पर उपलब्ध होगी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जर्मनी की लग्‍जरी कार निर्माता BMW (बीएमडब्‍ल्‍यू) ने भारत में MINI 3-डोर हैचबैक कार का Paddy Hopkirk Edition (पैडी हॉपकिर्क एडिशन) लॉन्च कर दिया है। यह कार कंप्लीटली बिल्ट-अप यूनिट (CBU)  के तौर पर उपलब्ध होगी। खास बात यह कि इस कार की सिर्फ 15 यूनिट्स उपलब्ध हैं। 

MINI पैडी हॉपकिर्क एडिशन की एक्स-शोरूम कीमत 41,70,000 रुपए रखी गई है। इस कार को सिर्फ कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट shop.mini.in पर बुक किया जा सकता है। आइए जानते हैं इसकी खासियत...

Tata Tiago का CNG वेरिएंट भारत में जल्द हो सकता है लॉन्च

ये हैं कार की खूबियां
लिमिटेड एडिशन में चिली रेड एक्सटीरियर कलर के साथ ऐस्पन व्हाइट रूफ, ब्लैक मिरर कैप्स, 16 इंच लाइट अलॉय व्हील्स विक्टरी स्पोक इन ब्लैक और पियानो ब्लैक में एक्सटर्नल एलिमेंट्स (बोनट स्कूप, डोर हैंडल्स, फ्यूल फिलर कैप, वेस्टलाइन फिनिशर, मिनी एम्ब्लेम फ्रंट और रियर, किडनी ग्रिल स्ट्रट) जैसे फीचर दिए गए हैं।

हॉपकिर्क एडिशन में दोनों तरफ व्हाइट में आइकॉनिक No. 37 स्टिकर और साइड स्कटल्स के साथ ही की कैप पर No. 37 बैजिंग दी गई है। पैडी हॉपकिर्क सिग्नेचर इल्युमिनेटेड डोर सिल्सए C-पिलर्स और कॉकपिट फेसिया पर एक मैट ब्लैक रियर स्टिकर के साथ दिए गए हैं। MINI पैडी हॉपकिर्क एडिशन में पैनोरमा ग्लास रूफ, कम्फर्ट एक्सेस सिस्टम, रियर व्यू कैमरा और जॉन कूपर वक्र्स स्पोर्ट लेदर स्टीयरिंग व्हील दी गई है।

Tata Safari नए अवतार में जल्द होगी लॉन्च

सेफ्टी फीचर्स  
सुरक्षा के तौर पर इस कार में फ्रंट पैसेंजर एयरबैग्स, ब्रेक असिस्ट, 3-पॉइंट सीट बेल्ट्स, डायनैमिक स्टेबिलिटी कंट्रोल, क्रैश सेंसर, एंटी-लॉक ब्रेकिंग सिस्टम, कॉर्नरिंग ब्रेक कंट्रोल और रन-फ्लैट इंडिकेटर दिए गए हैं।

इंजन
इस कार में MINI कूपर S 2-लीटर 4-सिलेंडर पेट्रोल इंजन दिया गया है। यह इंजन 192 hp/141 kW का पीक आउटपुट और 280 Nm का अधिकतम टॉर्क जेनरेट करता है।

स्टैंडर्ड MID मोड के अलावा, इस कार में  SPORT मोड एक्टिव और GREEN मोड  दिया गया है। इस कार की टॉप स्पीड 235 km/hr तक है।  वहीं यह कार सिर्फ 6.7  सेकंड में 100 km/hr  की रफ्तार पकड़ लेती है।


 

कमेंट करें
wdPTy
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।