• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • 1 lakh omen received in the Union Budget, Jabalpur-Indore railway line again alive, DPR work will start soon

दैनिक भास्कर हिंदी: केन्द्रीय बजट में मिली 1 हजार की शगुन राशि, फिर जिंदा हुई जबलपुर-इंदौर रेल लाइन, जल्द शुरू होगा डीपीआर का काम

February 5th, 2021

वित्तमंत्री ने संसद में पेश किए बजट अभिभाषण में किया था उल्लेख, अब नए सिरे से होगी पहल
डिजिटल डेस्क जबलपुर ।
तीन साल के बाद ही सही जबलपुर-इंदौर व्हाया बुधनी रेल परियोजना का उल्लेख केन्द्रीय बजट में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने एक बार फिर से करते हुए फाइलों में दफ्न रेल परियोजना में जान फूँक दी है। बजट में भले ही परियोजना के लिए मात्र एक हजार रुपए की धनराशि का प्रावधान किया गया है, लेकिन इस शगुन राशि से यह तय हो गया है िक जबलपुर-इंदौर रेल लाइन (गाडरवारा-इंदौर) का प्रस्ताव अभी जीवित है और आने वाले समय में इस महत्वाकांक्षी परियोजना पर काम शुरू किया जाएगा। जानकारों के अनुसार जबलपुर-इंदौर व्हाया बुधनी रेल परियोजना की घोषणा वर्ष 2016-17 के बजट में की गई थी और उसी समय डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट यानी डीपीआर पर काम करने की बात कही गई थी। 
रेल विकास निगम ने पेश की थी रिपोर्ट  
 रेल मंत्रालय की एजेंसी रेल विकास निगम ने शुरूआती दौर की  रिपोर्ट पेश कर दी थी। जिसमें कहा गया था कि राज्य सरकार के सहयोग से जबलपुर-इंदौर रेल लाइन को अंजाम तक पहुँचाया जाएगा, लेकिन उसके बाद फिर नई रेल लाइन पर कोई चर्चा न हो सकी। जिसमें भूमि अधिग्रहण को लेकर कई तरह की परेशानियाँ सामने आ रही थीं। अब नए सिरे से डीपीआर बनेगी और भूमि के अधिग्रहण की योजना पर विचार किया जाएगा। 
व्यापार और कारोबार को भी गतिशीलता मिलेगी
 वहीं आमजनों का कहना है कि जबलपुर से इंदौर तक गाडरवारा होकर जाने वाली नई रेल लाइन से सफर तो आसान हो ही जाएगा, साथ ही व्यापार और कारोबार को भी गतिशीलता मिलेगी। इस रेल लाइन का निर्माण पीपीपी के तहत किया जाना है। बजट में इसकी चर्चा होने से लोगों को नई रेल लाइन को लेकर उम्मीद जागी है। 
करीब 84 किमी का सफर कम हो जाएगा 
 रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार गाडरवारा से इंदौर तक नई रेल लाइन बिछाने की लंबाई करीब 342 किलोमीटर होगी। वर्तमान में जबलपुर से इंदौर की दूरी करीब 554 किलोमीटर है, जो नई रेल लाइन के बिछने के बाद 471 रह जाएगी। माना जा रहा है िक नई रेल लाइन बिछाने का काम पूरा होने के बाद ट्रेन के सफर में तकरीबन 84 किमी की दूरी कम हो जाएगी, जिससे तकरीबन 2 घंटे का सफर कम होगा। अभी यह सफर पूरा करने में ट्रेन को करीब 10 घंटे लगते हैं। इसके बाद यह अवधि करीब 8 घंटे रह जाएगी। इसके साथ ही इंदौर जाने वाले यात्रियों को नया मार्ग मिल जाएगा। 
ब्रॉडगेज के लिए मिला 285.50 करोड़ रुपए का बजट प्रावधान 
केन्द्रीय बजट में ब्रॉडगेज परिवर्तन के लिए 285.50 करोड़ रुपए की राशि का प्रावधान किया गया है। इसमें जबलपुर-कटंगी, बालाघाट-कटंगी सहित 285 किलोमीटर लाइन, छिंदवाड़ा-नागपुर के बीच 149.522 किलोमीटर रेल लाइन, छिंदवाड़ा मंडला फोर्ट के बीच 182.25 किलोमीटर रेल लाइन और नागभीड़-नागपुर के बीच 106.15 किलोमीटर रेल लाइन को शामिल किया गया है। 

खबरें और भी हैं...