नागालैंड हिंसा: असम राइफल्स का एक जवान शहीद, 14 की मौत, सेना का अभियान रहा विफल

December 6th, 2021

हाईलाइट

  • दो घायलों को असम राइफल्स द्वारा अस्पताल ले जाया गया

डिजिटल डेस्क, कोहिमा। नागालैंड के मोन जिले में शनिवार देर रात सेना के एक अभियान के विफल होने के बाद हुई हिंसक झड़पों में कम से कम 13 नागरिक मारे गए और असम राइफल्स का एक जवान शहीद हो गया और 14 अन्य घायल हो गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। हालांकि, स्थानीय मीडिया रिपोर्टों में कहा गया है कि म्यांमार की सीमा से लगे मोन में हुई इस घटना में 14 नागरिक मारे गए और 11 घायल हो गए। नेशनल सोशलिस्ट काउंसिल ऑफ नागालैंड-इसाक-मुइवा ने एक बयान में कहा कि असम राइफल्स की गोलीबारी में 15 नागरिक मारे गए।

कोन्याक होहो और ओटिंग विलेज स्टूडेंट्स यूनियन सहित विभिन्न नागा संगठनों के नेताओं ने दावा किया कि आठ कोयला खनिक तिरु कोयला खनन क्षेत्र से एक पिकअप वैन में लौट रहे थे, जब उन्हें निशाना बनाया गया। ओवीएसयू के अध्यक्ष केपवांग कोन्याक ने कहा कि सुरक्षा बलों ने गलत पहचान के कारण उन पर गोलीबारी की, जिसमें छह लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और दो घायलों को असम राइफल्स द्वारा अस्पताल ले जाया गया।

उन्होंने कहा कि इस घटना को सुनकर गुस्साई भीड़ इलाके में पहुंच गई और असम राइफल्स के जवानों ने आत्मरक्षा में गोलियां चलाईं, जिसमें सात और नागरिकों की मौत हो गई और 12 ग्रामीण घायल हो गए। घायल नागरिकों को नजदीकी अस्पताल ले जाया गया। ओटिंग और तिरु गांवों के बीच हुई घटना के बाद भीड़ के हमले में असम राइफल्स का एक जवान शहीद हो गया। रविवार को बड़ी संख्या में गुस्साए ग्रामीणों ने मोन में असम राइफल्स के कैंप पर हमला कर दिया और भीड़ को तितर-बितर करने के लिए जवानों ने हवा में गोलियां चला दीं।

(आईएएनएस)