comScore

आर्मी कैप्टन बनकर बेरोजगारों को ठगने वाले को 5 साल की सजा

आर्मी कैप्टन बनकर बेरोजगारों को ठगने वाले को 5 साल की सजा



डिजिटल डेस्क जबलपुर। खुद को आर्मी का कैप्टन बताकर एक दर्जन से अधिक युवक-युवतियों को सेना में नौकरी लगवाने के नाम पर ठगने वाले को जिला सत्र न्यायालय ने 5 साल की सजा सुनाई है। एडीजे ज्योति मिश्रा की अदालत ने आरोपी सोनू रजक पर अलग-अलग धाराओं में कुल 25 हजार 2 सौ रुपये का जुर्माना भी लगाया है। अभियोजन के अनुसार मूलत: सहसन (शहपुरा) के ग्राम दिधौरी निवासी 31 वर्षीय सोनू रजक रामपुर क्षेत्र में किराये के मकान पर रहता था। खुद को जेक राईफल्स में खुद को आर्मी का कैप्टन बताते हुए वह जैक राईफल्स की ड्रेस भी पहनता था और उसने 1 से 29 सितंबर 2019 के बीच 15 युवक-युवतियों को आर्मी में नौकरी लगवाने झांसा दिया। आरोपी ने खुद ही ट्रेनिंग देकर भर्ती कराने की बात कही। 10-10 लाख रुपए देने की बात कहकर शिकायतकर्ताओं से हजारों रुपए भी ऐंठ लिए और फिर फरार हो गया। जब आरोपी का कहीं पता नहीं चला, तब शिकायतकर्ताओं ने गोरखपुर पुलिस में शिकायत दी, जहां पर आरोपी के खिलाफ विभिन्न धाराओं के तहत प्रकरण दर्ज करके उसे गिरफ्तार किया गया।  उसके पास से जैक राईफल्स की ड्रेस भी बरामद की गई थी। पुलिस द्वारा पेश किए गए चालान पर विचारण के बाद अदालत ने उपलब्ध साक्ष्यों के आधार पर आरोपी को दोषी पाते हुए सजा सुनाई। शासन की ओर से एजीपी सुशील सोनी ने पैरवी की।

कमेंट करें
mNGz8