संग्रहालय को दिया जा रहा नया रूप : आनन-फानन में ब्यौहारबाग शिफ्ट हुआ डीएफओ कार्यालय

September 14th, 2021

 डिजिटल डेस्क जबलपुर । 164 वर्ष पूर्व देश की आजादी के लिए अंग्रेजों के खिलाफ आंदोलन करने वाले गोंड शासक राजा शंकर शाह और उनके पुत्र कुँवर रघुनाथ शाह के बलिदान और देशप्रेम से जुड़ी बातों को जीवंत रूप देने के लिए संग्रहालय को नया रूप दिया जा रहा है। एल्गिन अस्पताल के समीप शहीदों को जिस स्थान पर बंदी बनाकर रखा गया था, उस स्थान पर करीब 30 साल से वनमंडल (डीएफओ) कार्यालय संचालित किया जा रहा है। लेकिन हाल ही में देश के गृहमंत्री अमित शाह के बलिदान दिवस कार्यक्रम में शामिल होने की वजह से सालों से गुमनामी में पड़े इस संग्रहालय का रेनोवेशन शुरू हुआ और डीएफओ दफ्तर को आनन-फानन में ब्यौहारबाग स्थित वन विभाग के छात्रावास में  शिफ्ट कर दिया गया। डीएफओ अंजना सुचिता तिर्की का कहना है कि वेतन शाखा को छोड़कर वनमंडल के डिवीजन ऑफिस को खाली करके ब्यौहारबाग में शिफ्ट करा लिया गया है। नए कार्यालय के लिए फिलहाल कोई जगह तय नहीं हुई है। शासन को प्रस्ताव भेजे गए हैं।
घोषणा ठंडे बस्ते में रही 
 सूत्रों के अनुसार गोंड शासकों के बलिदान और स्मृतियों के प्रचार को लेकर करीब दस साल पूर्व इस संग्रहालय के जीर्णोद्धार की घोषणा तो की गई थी, लेकिन मामला ठंडे बस्ते में ही पड़ा रहा। यही वजह रही कि नए डीएफओ कार्यालय के लिए कोई जगह निर्धारित नहीं हो पाई है। जिस छात्रावास में दफ्तर शिफ्ट हुआ है वह काफी जर्जर है। 

खबरें और भी हैं...