comScore

पति ने कराई थी पत्नी की हत्या, उधर आशिक निकला प्रेमिका का कातिल

September 20th, 2020 17:46 IST
पति ने कराई थी पत्नी की हत्या, उधर आशिक निकला प्रेमिका का कातिल

डिजिटल डेस्क सतना। जिले के 2 अलग-अलग थाना क्षेत्रों में 3 दिन के अंदर हुई 2 विवाहिता महिलाओं की अंधी हत्या की गुत्थी पुलिस ने शनिवार को एकसाथ सुलझा ली। इन दोनों वारदातों के सिलसिले में पुलिस अधीक्षक रियाज इकबाल ने सनसनीखेज खुलासा किया। उन्होंने बताया कि 15 सितंबर को सिंहपुर थाना क्षेत्र के शिवराजपुर के दहलान धाम नाले में धार के बीच चट्टानों में फंसी मिली लाश सीता त्रिपाठी की है। सीता की हत्या उसके पति ने कराई थी। जबकि 17 सितंबर को उचेहरा थाना क्षेत्र के बरहटा से बरामद एक अन्य महिला मीना केवट की हत्या उसी के आशिक ने की थी। हत्या की इन दोनों वारदातों पर पुलिस ने 4 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है, जबकि एक फरार है।
पूर्व सरपंच और ड्राइवर के साथ 3 गिरफ्तार, एक फरार-
 एसपी रियाज इकबाल ने बताया कि सिंहपुर थाना क्षेत्र के शिवराजपुर में  दहलान धाम नाले से 15 सितंबर की सुबह बरामद की गई लाश की पहचान परिजनों ने 35 वर्षीय विवाहिता महिला सीता त्रिपाठी के रुप में की है। जांच में यह तथ्य सामने आया कि सीता का विवाह रामपुर बघेलान थाना अंतर्गत खारी गांव में  रमाकांत त्रिपाठी पिता लालमणि त्रिपाठी (39)के साथ हुआ था। पति-पत्नी के बीच तलाक का केस कोर्ट में था। सीता अपने मायके में मां के साथ रहती थी। उसे कोर्ट के आदेश से पति से प्रतिमाह 3 हजार रुपये की भरण पोषण राशि मिलती थी।
 नाले में मिली थी सीता की लाश-
 पुलिस के मुताबिक 14 सितंबर को सुबह सीता के मोबाइल पर उसके पति रमाकांत त्रिपाठी का फोन आया। उसने सीता को बताया कि भरण पोषण के 8 हजार रुपए गांव के ही पूर्व सरपंच संतू उर्फ सतोष उरमलिया पिता स्व.राममोहन (55) के घर पर रखे हैं। वह वहां से जाकर ले ले। सीता ने यह बात मां को बताई और अपने घर से संतू के घर के लिए निकल गई। मगर, इसके बाद फिर उसे जिंदा नहीं देखा गया। उधर, जब  बेटी  बहुत देर तक घर नहीं लौटी तो उसकी मां सहेली बाई सीधे संतू उर्फ संतोष उरलिया के घर पहुंची।  मगर संतू घर पर नहीं मिला। सहेली बाई उसके दूसरे घर पहुंची। दूसरे घर में मौजूद आरोपी संतू ने कहा कि सीता उसके पास नहीं आई है। हताश मां घर लौट आई।
संतू ने अपने घर में की थी हत्या-
अगले दिन यानि 17 सितंबर की सुबह शिवराजपुर गांव में उस वक्त हड़कंप मच गया,जब लापता सीता का शव दहलान धाम नाले में धार के बीच चट्टानों में फंसा मिला। सिंहपुर के थाना प्रभारी विक्रम पाठक ने जब पड़ताल शुरु की तो पता चला कि मृतिका सीता और उसके पति के बीच जिस समय पर बात हुई थी उसी के आसपास संतू उर्फ संतोष उरमलिया की बातचीत उसके पति रमाकांत त्रिपाठी से भी हुई थी। शक के इसी पुख्ता आधार पर जब पूर्व सरपंच संतू को हिरासत में लेकर पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो उसने जुर्म कबूल कर लिया। आरोपी ने स्वीकार किया कि फोन पर सीता के पति रमाकांत त्रिपाठी द्वारा बनाई गई योजना के तहत उसने  सीता को घर बुलाया। गला दबाया और फिर पानी के टब में उसके मुंह को डुबो कर उसकी हत्या कर दी।
 वारदात में प्रयुक्त स्कार्पियों भी जब्त-
हत्या के आरोपी संतू उरमलिया ने पुलिस को बताया कि  हत्या के बाद सीता की लाश को त्रिपाल में लपेट कर वह , ड्राइवर रामकिशोर प्रजापति पिता संतोष और नत्थू यादव पिता रामसुरेश (दोनों निवासी शिवराजपुर) के साथ अपनी  सफेद रंग की स्कार्पियो एमपी-19 सीए 6234 से दहलान धाम नाले में धार में फेंक आया। पुलिस ने वारदात में प्रयुक्त स्कार्पियों जब्त कर ली है। इस वाहन की  तलाशी में पुलिस को सीता की टूटी हुई चूडिय़ां और नाले के घटना स्थल से टायर के निशान भी मिले हैं। सीता की हत्या और साक्ष्य मिटाने के आरोप में पुलिस ने  संतू उर्फ संतोष उरमलिया, मृतिका के पति रमाकांत त्रिपाठी, ड्राइवर रामकिशोर प्रजापति और नत्थू यादव पिता रामसुरेश के खिलाफ आईपीसी की धारा-302,201, 120 बी ,34 के तहत कायमी की है। आरोपियों में से नत्थू यादव फिलहाल फरार है। जबकि पकड़ में आए 3 अन्य आरोपियों को 20 सितंबर को न्यायिक रिमांड के लिए कोर्ट में पेश किया जाएगा। पुलिस ने स्कार्पियो के अलावा पानी का टब,  सीता के एक पांव का गुलाबी रंग का चप्पल,  डुपट्टा  स्कार्पियो से मिले मृतिका के चूड़ी के टुकड़े और  प्लास्टिक की बोरी की त्रिपाल भी बरामद कर जब्त की है।  
 इन्होंने निभाई अहम भूमिका-
एसपी ने बताया कि इस गिरफ्तारी में  उप पुलिस अधीक्षक आशुतोष पटेल, सिंहपुर थाना प्रभारी विक्रम पाठक, सब इंस्पेक्टर अजीत सिंह,  हेड कांस्टेबल दीपेश कुमार, एएसआई  महेन्द्र गौतम, हेड कांस्टेबल  पुष्पेन्द्र सिंह, दीपक वर्मा,  आरक्षक राजेश दुबे,  गेंदराव सलामे, मोहित गुप्ता,  सुरजीत सिंह,  भरत बागरी,  गोकुल मुवेल,  रजनीश सिंह, महेन्द्र सिंह , अनीश खान और साह फहद ने अहम भूमिका निभाई।

कमेंट करें
kA8RT