• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Jabalpur: Eight chit fund companies seized off movable and immovable property, instructions to return investors' deposits

दैनिक भास्कर हिंदी: जबलपुर: आठ चिटफंड कंपनियाँ बंद चल-अचल संपत्ति जब्त, निवेशकों की जमा राशि वापस करने के निर्देश

January 23rd, 2021

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। जबलपुर आम जनता से धोखाधड़ी करने वाली फर्जी चिटफंड कंपनियों के विरूद्ध कार्यवाही करने के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मंशा के अनुरूप कलेक्टर कर्मवीर शर्मा के निर्देशानुसार आठ निधि कंपनियों के स्थानीय कार्यालयों को बंद करा दिया है। साथ ही उनकी चल-अचल संपत्तियों को आधिपत्य में लेकर निवेशकों की जमा राशि वापस कराने के आदेश संबंधित क्षेत्र के एसडीएम को दिये गये हैं।

जिला संस्थागत वित्त अधिकारी हेमंत सिंह के अनुसार आठ निधि कंपनियों को बंद कर उनकी चल-अचल संपत्ति को आधिपत्य लेने की कार्यवाही प्रारंभ कर दी गई है। इन सभी आठ निधि कपंनियों को भारत सरकार द्वारा कंपनी अधिनियम 2013 की धारा 406 के तहत लोगों से डिपाजिट लेने और ऋण देने वाली संस्थाओं की घोषित सूची में शामिल नहीं किया गया था। बावजूद इसके इनके द्वारा वित्तीय लेन-देन किया जा रहा था। बंद कराई गई निधि कंपनियों में ट्रांसपोर्ट नगर चांडाल भाटा स्थित फ्यूचर निधि लिमिटेड, नर्मदा नर्सरी स्कूल के सामने सुहागी स्थित मां सविता म्यूचुअल निधि लिमिटेड, गौतम जी की मढिय़ा हनुमान मंदिर के पास गढ़ा स्थित नर्मदा निधि लिमिटेड, रसल चौक के पास नेपियर टाउन स्थित नित्य पुष्टा म्युचुअल बेनीफिट निधि लिमिटेड, मदन महल मुजावर एक्रोपोलिस शॉप नंबर एक स्थित पिंच म्युचुअल बेनिफिट निधि लिमिटेड, दद्दा नगर स्थित रोजीनेस बेनिफिट निधि लिमिटेड, बम्हनौदा मेन रोड शिवाजी वार्ड स्थित संस्कारधानी निधि लिमिटेड एवं गिरिजा का मकान गंगानगर गढ़ा सदानंद सोसायटी महादेव मंदिर स्थित स्ट्रीम लाइन नव निधि लिमिटेड शामिल है।

जिला संस्थागत वित्त अधिकारी ने बताया कि कलेक्टर श्री कर्मवीर शर्मा के निर्देश पर क्षेत्र के कार्यवाही दंडाधिकारियों ने इन आठों निधि कंपनियों की वित्तीय स्थापना को तत्काल बंद करा दिया हैं। इसके साथ ही इन सभी आठों संस्थाओं की चल-अचल संपत्ति को भी तत्काल आधिपत्य में ले लेने की कार्यवाही प्रारंभ कर दी गई है। सभी निवेशकों को राशि दिलवाना सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिये गये हैं।

जिला प्रशासन द्वारा फर्जी चिटफंड कपंनियों द्वारा की गई कार्यवाही के बाद आम लोगों में भी प्रशासन के प्रति भरोसा बढ़ा है। फलस्वरूप अब लोगों ने भी धोखेबाज कंपनियों के विरूद्ध सामने आकर पुलिस थाना में प्राथमिकी दर्ज कराना शुरू कर दिया हैं। हाल ही में संजीवनी नगर पुलिस थाना में भूकंप कालोनी परसवाड़ा संजीवनी नगर निवासी श्रीमती अंजना गुप्ता ने स्ट्रीम लाइव नव निधि लिमिटेड कंपनी के मैनेजिंग डायरेक्टर गणेश सिंह राजपूत के विरूद्ध धोखाधड़ी की एफ.आई.आर. दर्ज कराई है।