• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Most of 53 vultures were found in Bagdari of Patan and 34 in Kundam - new targets were also detected.

दैनिक भास्कर हिंदी:  पाटन के बगदरी में सर्वाधिक 53 और कुण्डम में 34 गिद्ध मिले - गिद्धों की संख्या में हुआ इजाफा नए ठिकानों का भी पता चला

February 8th, 2021

डिजिटल डेस्क जबलपुर । रविवार की सुबह सूर्योदय के साथ प्रदेश के सभी वन मंडलों के साथ जबलपुर वन मंडल की सभी रेंजों में भी गिद्धों की गणना शुरू हुई। ठंडे और कोहरे के कारण शुरूआती दौर में वन अमलों को कुछ दिक्कतें हुईं, लेकिन सूरज निकलने के बाद मौसम में गरमाहट आते ही संभावित क्षेत्रों में गिद्ध भोजन की तलाश में बाहर निकले और दो घंटे में गणना की कार्रवाई पूरी कर ली गई। पिछली गणना में 77 गिद्ध मिले थे, जिसकी तुलना में इस बार 15 गिद्ध ज्यादा दिखे और उनके नए ठिकानों का भी पता चला। सबसे ज्यादा 53 गिद्ध पाटन-दमोह बॉर्डर पर स्थित बगदरी फॉल की खाई और चट्टानों पर मिले, दूसरे नंबर पर कुंडम रेंज के जंगली एरिया में 34 अलग-अलग प्रजातियों के गिद्ध मिले। 
18 ठिकानों पर 64 वयस्क और 28 अवयस्क
 रविवार की सुबह जबलपुर परिक्षेत्र के साथ सिहोरा, कुंडम, शहपुरा, पाटन और बरगी रेंजों में गिद्धों की गणना शुरू हुई थी, जिसमें 18 ठिकानों में कुल 92 गिद्ध नजर आए। इनमें 64 वयस्क और 28 अवयस्क गिद्ध हैं। वर्ष 2019 की गणना में कुल 77 गिद्ध मिले थे, जिनमें पाटन के तमोरिया में सर्वाधिक 71 और शहपुरा में 6 गिद्ध मिले थे। इनमें 77 वयस्क और महज 7 अवस्यक थे। जानकारों का मानना है कि संख्या में इजाफा होने के साथ अवयस्क गिद्धों की संख्या में चार गुना वृद्धि होना अच्छा संकेत है। 
कुंडम बना गिद्धों का नया ठिकाना 
वैसे तो जबलपुर की सभी रेंजों में गिद्धों का इतिहास रहा है, लेकिन 34 की संख्या में पहली बार कुण्डम के जंगली एरिया में गिद्ध मिलने से इनके नया ठिकाना डेवलप हुआ है।
इनका कहना है
जबलपुर वन मंडल की सभी रेंजों में रविवार को गिद्धों की गणना हुई, इस बार 92 अलग-अलग प्रजातियों के गिद्ध मिले हैं, पिछली गणना की तुलना में इस वर्ष ज्यादा गिद्ध मिले और उनके नए रहवासी ठिकानों का भी पता चला है। 
अंजना सुचिता, तिर्की डीएफओ 
 

खबरें और भी हैं...