दैनिक भास्कर हिंदी:  ग्राहक के खाते से निकल गए एक लाख रुपये से ज्यादा - परिपैवता के समय पता चला

October 26th, 2019

डिजिटल डेस्क  कटनी । शहर के मंगलनगर पोस्ट आफिस में डेढ़ साल भर पहले हुए घोटाला की अभी जांच भी पूरी नहीं हुई है कि एक ग्राहक के खाते से एक लाख  रुपये निकाले जाने का नया प्रकरण सामने आया है। खाते से राशि निकालने का पता ग्राहक को उस समय चला जब वह तीन साल बाद टीडी (टाइम डिपाजिट) की जानकारी लेने मंगलनगर डाकघर गया। शिकायत पर डाकतार विभाग ने जवाब दिया कि जांच पूरी होने के बाद ग्राहक को रकम दी जाएगी।
चालू खाता में ट्रांसफर कर निकाली रकम
हिरवारा वार्ड नंबर 6 निवासी सुखलाल कोल ने जनसुनवाई में दी शिकायत में बताया कि उसने उसका खाता नंबर 489961/200 मंगलनगर पोस्ट आफिस में है, जिसमें 36 हजार रुपये पूर्व से जमा थे। दिनांक 22/5/2016 को एक लाख रुपये टीडी खाते में जमा कराए थे। तब पोस्टमास्टर ने यह कहते हुए पासबुक अपने पास रख ली थी कि अभी रजिस्टर में लिखा पढ़ी कर दी है, पासबुक बाद में ले जाना। शिकायत में आरोप लगाया है कि 29/8/2019 को एक लाख रुपये की जानकारी लेने गया तो वहां मौजूद डाकपाल ने बताया कि उसके खाते में केवल दो हजार रुपये शेष हैं। टीडी की एक लाख रुपये की रकम चालू खाते में ट्रांसफर करके निकाली जा चुकी है। डाकपाल का जवाब सुनते ही सुखलाल कोल के पैरों तले से जमीन खिसक गई। शिकायत में बताया कि उसके निरक्षर होने के कारण उसके साथ धोखाधड़ी की गई।
94 ग्राहकों से हो चुकी है धोखाधड़ी
डेढ़ साल पहले मंगलनगर पोस्टआफिस में ग्राहकों से फ्रॉड की शिकायत पर प्रवर डाक अधीक्षक जबलपुर ने जांच कराई थी।  ग्राहकों की शिकायत पर 1200 से अधिक खातों की जांच की गई थी, जिसमें 94 ग्राहकों से नौ लाख, 63 हजार रुपये की धोखाधड़ी की पुष्टि हुई थी। धोखाधड़ी के शिकार ग्राहकों को अब तक उनकी रकम नहीं मिल पाई है।  संस्थागत वित्त अधिकारी दीपक सिंह ने बताया कि सुखलाल की शिकायत के जवाब में प्रवर डाक अधीक्षक ने बताया कि तत्कालीन डाकपाल द्वारा बहुत से खातों में गबन किया गया है, जिसकी जांच चल रही है। जांच के पश्चात ग्राहक को राशि का भुगतान किया जाएगा।
इनका कहना है
सुखलाल कोल के खाते से उसकी जानकारी के बिना एक लाख रुपये से अधिक राशि निकाले जाने की शिकायत की जांच की जा रही है। मंगलनगर डाकघर की में फ्रॉड की पहले भी शिकायतें हुई थीं। जिसमें 94 ग्राहकों से 9.63 लाख रुपये के फ्राड पू्रफ हुआ है।
-रिन्कू सिंह, एसडीआई डाकतार