दैनिक भास्कर हिंदी: रेल टिकट दलाल पर आरपीएफ का छापा, हजारों रुपए के ई-टिकट जब्त

September 3rd, 2019

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। रेल टिकट दलालों के खिलाफ ऑपरेशन थंडर का धमाका करने के बाद आरपीएफ ने एक बार फिर एक्टिव होकर रेल टिकट्स का काला कारोबार करने वाले दलालों की ठिकाने पर छापेमारी कर हजारों रुपए के ई-टिकट्स जब्त करने में सफलता पाई है। कार्रवाई के दौरान ऑनलाइन सेंटर का संचालक तो फरार हो गया लेकिन सहयोगी पकड़ा गया। इस दौरान आरपीएफ की टीम ने दुकान से एक कम्प्यूटर, दो मोबाइल, भरे हुए रिजर्वेशन फॉर्म और रजिस्टर सहित कुछ दस्तावेज जब्त किए हैं। आरपीएफ पोस्ट प्रभारी वीरेन्द्र सिंह ने बताया कि काफी दिनों से स्टेशन रोड इंद्रा मार्केट के एफ-16 में चल रही साहनी ऑन लाईन सर्विस में रेल टिकट की कालाबाजारी की शिकायतें मिल रही थीं। जिसकी पड़ताल करने पर पता चला कि ऑनलाइन सेंटर का संचालक रेल टिकट की दलाली कर रहा है। ऐसे में कार्रवाई को अंजाम देने के लिए आरपीएफ की टीम तैयार करने के बाद रविवार की शाम साहनी ऑन लाईन सर्विस में छापामारी की गई। जिसमें ऑनलाइन सेंटर का संचालक गोरखपुर निवासी राजेश साहनी पिता शिवचरण दास साहनी तो मौका पाकर फरार हो गया लेकिन सहयोगी घमापुर निवासी बैजेन्द्र कुमार भलावे पिता लोहरी लाल भलावे पकड़ा गया। जिसके पास से 49, 435 रुपए के 38 यूज्ड ई-टिकट्स मिले, जिन्हें जब्त कर लिया गया। अब उनसे पूछताछ की जा रही है।

कई ई-मेल आईडी, ग्राहकों के मोबाइल नम्बर मिले

आरपीएफ पोस्ट प्रभारी श्री सिंह ने बताया कि साहनी ऑन लाईन सर्विस में लंबे समय से रेल टिकट की दलाली का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि सेंटर का संचालक राजेश साहनी कई ई-मेल आईडी से अवैध कारोबार चला रहा था और उसके टिकट बुकिंग डिटेल सामने आ गए हैं। अब आरपीएफ ने ई-मेल आईडी से बुकिंंग का डेटा और जब्त की गई 38 यूज्ड ई-टिकट्स का विवरण आईआरसीटीसी से मांगा है। जिससे यह खुलासा हो जाएगा कि साहनी और उसका सहयोगी कितने समय से रेल टिकट की अवैध तरीके से बुकिंग का काला कारोबार संचालित कर रहे थे। ऑन लाईन सर्विस सेंटर में आरपीएफ की टीम को रजिस्टर भी मिले हैं, जिनमें ग्राहकों के नाम और मोबाइल नम्बर दर्ज हैं। अब जांच के अगले चरण में इन लोगों के राजेश साहनी के साथ संपर्क की जांच की जाएगी।
 

खबरें और भी हैं...