comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

 शहर के करीब पहुंचा बाघ, उमरियापान में तेंदुआ की दस्तक से दहशत

 शहर के करीब पहुंचा बाघ, उमरियापान में तेंदुआ की दस्तक से दहशत

वन विभाग सामान्य घटना मान रहा, टाइगर की सूचना मिलते ही जुट जाती है भीड़
डिजिटल डेस्क  उमरियापान & कटनी ।
इन दिनों जिले में वन्यप्राणियों की मौजूदगी ने लोगों में खौफ कर दिया है। शहर से मात्र पांच किलोमीटर दूर सुरखी टैंक के समीप बाघ दो-तीन दिन से डेरा जमाए है। यहां गुरुवार शाम को भी बाघ देखा गया। बाघ की सूचना पर सुरखी टैंक के समीप लगोंा की भीड़ जुट गई।  वहींउमरियापान क्षेत्र में तेंदुआ की दस्तक से लोग दहशत में हैं। हालांकि तेंदुआ के मूवमेंट की सूचना पर वन विभाग की टीम देवरी पाठक पहुंची। क्षेत्र में बाघ की उपस्थिति को वन विभाग भले ही शुभ संकेत मान रहा है पर यह लोगों के लिए बड़ा खतरा बन सकता है। क्योंकि कुछ दिनों पहले एक महिला को बाघ मौत के घाट उतार चुका है। आबादी के समीप इतने खतरनाक वन्यप्राणी की उपस्थिति पर वन विभाग की बेपरवाही ने लोगोंं को चिंता में डाल दिया है।
दूसरे दिन भी पहुंचा बाघ
जानकारी के अनुसार गुरुवार को भी  जिला मुख्यालय से पांच किलोमीटर दूर सुरखी टैंक के समीप बाघ देखा गया। कटनी-शहडोल नेशनल हाइवे के समीप बाघ के मूवमेंट से लोगों में भय बढ़ता जा रहा है। वन विभाग ने भी स्वीकार किया कि बाघ संभवत: पानी की तलाश में यहां पहुंचा है। एक दिन पहले ही बुधवार को बाघ के सुरखी टैंक के समीप  घूमने का वीडियो वायरल हुआ था। गुरुवार शाम पांच बजे सुरखी दक्षिण की ओर सरसवाही के जंगल में बाघ देखा गया। बाघ के यहां पहुंचने की जानकारी मिलने लोगों की भीड़ जुट गई थी। बताया जाता है कि समीप ही मझगवां नर्सरी में बाघ ने अपना ठिकाना बनाया है।
खेत में मिले तेंदुआ के पदचिन्ह
ढीमरखेड़ा वन परिक्षेत्र के ग्राम देवरी पाठक में एक किसान के खेत में तेंदुआ के पदचिन्ह मिलने से लोगों में दहशत फैल गई। जानकारी के अनुसार कृषक रामकिशोर बर्मन ने सुबह खेत में वन्यप्राणी के पदचिन्ह देखे तो वह सकते में आ गया और उसने गांव में अन्य लोगों को जानकारी दी। सूचना पर पर वन विभाग डिप्टी रेंजर अनिल सिंह, वन रक्षक के.सी.गड़ारी, बीट गार्ड रामफल पटेल गांव में पहुंचे और ग्रामीणों को सतर्कता बरतने की सलाह दी। बताया गया है कि ढीमरखेड़ा क्षेत्र में एक पखवाड़े पहले भी तेंदुआ देखा गया था। 15 दिन बाद फिर से तेंदुआ की चहल कदमी ने लोगों को चिंता में डाल दिया है।
इनका कहना है
सुरखी टैंक के समीप बाघ के मूवमेंट की जानकारी है, स्टाफ द्वारा लगातार निगरानी की जा रही है। लोगों को भी सतर्कता बरतने कहा गया है। क्षेत्र में बाघ का मूवमेंट सामान्य बात है।
-आर.के.राय, डीएफओ
 

कमेंट करें
zDwvM