comScore

घाटी और धंसी तो बंद हो जाएगा छिंदवाड़ा-नागपुर हाइवे

घाटी और धंसी तो बंद हो जाएगा छिंदवाड़ा-नागपुर हाइवे


डिजिटल डेस्क छिंदवाड़ा। नेशनल हाइवे 547 छिंदवाड़ा से नागपुर मार्ग पिछले साल सिल्लेवानी घाटी में भू-स्खलन से आधा हो गया था। यहां बारिश के दौरान और बाद तक भू-स्खलन की स्थिति बनी रही। जिससे 10 मीटर चौड़ा हाइवे करीब 5 मीटर का शेष बचा है। खासबात यह कि एनएचएचएआई अब जागा है। उसे भू-स्खलन रोकने की प्लानिंग, एस्टीमेट, मंजूरी और ठेका प्रक्रिया सहित एजेंसी ढूंढने में करीब साल भर का वक्त लग गया है। अब बारिश का सीजन शुरू होने पर एनएचएआई निर्माण के लिए एजेंसी (ठेकेदार) फिक्स कर पाया है। घाटी में भू-स्खलन रोकने के लिए गेबियन वॉल बनाई जाएगी। फिलहाल काम प्राइमरी स्टेज यानी सर्वे तक पहुंच पाया है। जबकि वॉल निर्माण में करीब दो माह का समय लग सकता है। इस बीच यदि तेज बारिश और पुन: भू-स्खलन की स्थिति बनती है तो छिंदवाड़ा से नागपुर का घाटी में शेष बचा 5 मीटर चौड़ा मार्ग बंद हो सकता है।
ट्रेफिक लोड तीन गुना तक बढ़ गया-
सिल्लेवानी में आधे बचे हाइवे को इन दिनों तीन गुना से ज्यादा ट्राफिक झेलना पड़ रहा है। कारण सिवनी से नागपुर मार्ग 30 मई से बंद है। यहां मोहगांव से खवासा के बीच सड़क पर काम चलने की वजह से मार्ग को छिंदवाड़ा से डायवर्ट किया गया है। जिससे सिवनी व जबलपुर की ओर से आने वाले वाहन भी छिंदवाड़ा होकर नागपुर जा रहे हैं। जबकि छिंदवाड़ा का ट्रेफिक पहले ही बना हुआ है। एक अनुमान के मुताबिक करीब 1 हजार वाहन हर दिन गुजर रहे हैं।
अभी कितना डेमेज है घाटी पर हाइवे-
छिंदवाड़ा से करीब 35 वें किलोमीटर पर सिल्लेवानी घाट में लैंड स्लाइडिंग से सड़क का लगभग 200 मीटर लंबा हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है। उक्त हिस्से में साइड गार्ड, सोल्डर और डामरीकृत सड़क का 4 मीटर से अधिक का हिस्सा धंस कर खाई में समा गया है। दिशा संकेतक भी खाई में समा चुके हैं। पिछले करीब साल भर से एनएचएआई यहां रेत की बोरियां जमाकर काम चला रहा है।
दो करोड़ में बनेगी गेबियन वॉल-
सिल्लेवानी घाटी में भू-स्खलन के साथ सड़क को धंसने से रोकने के लिए एनएचएआई करीब ढाई सौ मीटर लंबी गेबियन वॉल बनाने की तैयारी में है। गेबियन वॉल यानी बोल्डर-पत्थरों को जाल के सहारे जमाकर दीवार खड़ी की जानी है। उक्त वॉल के निर्माण का ठेका करीब 2 करोड़ रुपए में दिया गया है। अधिकारियों के मुताबिक बारिश में कांक्रीट का काम नहीं किया जा सकता है।
इनका कहना है...
सिल्लेवानी घाटी में भू-स्खलन व सड़क को क्षतिग्रस्त होने से रोकने के लिए गेबियन वॉल का निर्माण किया जा रहा है। इसके लिए एजेंसी फिक्स हो गई है। प्राइमरी स्तर पर काम भी शुरु हो गया है।
- बीपी गुप्ता, प्रोजेक्ट डायरेक्टर, एनएचएआई, छिंदवाड़ा

कमेंट करें
bOsdt