• Dainik Bhaskar Hindi
  • Fake News
  • 34 countries of the world have not yet defended Nupur regarding the controversial statement of Nupur Sharma on Mohammad

फैक्ट चैक: क्या इजराइयल, रुस, नीदरलैंड और फ्रांस समेत 34 देशों ने मुहम्मद पैगंबर पर नूपुर शर्मा की टिप्पणी को लेकर नूपुर और भारत का समर्थन किया गया है? जाने सच

June 11th, 2022

हाईलाइट

  • गिर्ट नीदरलैंड के विपक्षी नेता व सांसद हैं

डिजिटल डेस्क, भोपाल। बीजेपी की प्रवक्ता नूपुर शर्मा के पैगंबर मोहम्मद पर दी गई विवादास्पद टिप्पणी के बाद दुनिया के कई मुस्लिम देशों ने कड़ी आपत्ति जताई। मुस्लिम देशों के बढ़ते विरोध के कारण भारत ने इस मुद्दे पर अपना स्टैंड रखा। भारत के विदेश मंत्रालय ने बयान जारी करते हुए कहा है कि, हमारा देश सभी धर्मों का सम्मान करता है। किसी एक व्यक्ति के दिये गैरजिम्मेदाराना बयान को देश का बयान नहीं मानना चाहिए। मोहम्मद पैगंबर को लेकर जिस नेता ने बयान दिया है, वह उनकी निजी राय हो सकती है देश की नहीं। इसके बाद बीजेपी ने भी बड़ा एक्शन लेते हुए नूपुर को पार्टी से 6 साल के लिए सस्पेंड कर दिया।

इस दौरान सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मस पर कुछ यूजर्स इस दावे के साथ पोस्ट शेयर करने लगे कि, मुस्लिम देशों से तनावपूर्ण रिश्तों के बीच इजरायल, रुस और फ्रांस समेत 34 देशों ने नूपुर शर्मा का बचाव और भारत का समर्थन किया है।

एक ट्विटर यूजर ने लिखा, ‘रुस, नीदरलैंड, फ्रांस और इजरायल सहित दुनिया के 34 देश नुपुर शर्मा और भारत के सपोर्ट में उतरे।‘
और भी कई यूजर्स ने ऐसे ही दावे के साथ अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर पोस्ट शेयर किए। 

पड़ताल -  हमने वायरल पोस्ट में किए दावे के मुताबिक जानकारी एकत्रित करनी चाही लेकिन हमें कहीं भी ऐसी कोई खबर नहीं मिली जहां पक्के तौर पर ये लिखा हो कि 34 देशों ने नुपुर शर्मा विवाद पर उनका और भारत का समर्थन किया हो। हमने सोशल मीडिया से लेकर विदेश मंत्रालय का आधिकारिक सोशल मीडिया अकाउंट और वेबसाइट पर भी सर्च किया लेकिन हमें दावे से संबंधित कोई भी खबर नहीं मिली।

इस मुद्दे पर हमें केवल डच नेता सांसद गिर्ट विल्डर्स की खबर मिली जिसमें उन्होंने नुपुर शर्मा का समर्थन किया था। गिर्ट नीदरलैंड के विपक्षी नेता व सांसद हैं। उन्होंने नूपुर शर्मा मामले पर ट्वीट करते हुए कहा कि नूपुर शर्मा ने जो कुछ भी कहा वो सब सच है। ये बात हास्यपद है कि अरब और अन्य इस्लामिक देश सच सुनकर नाराज हो गए हैं। भारत को माफी मांगने की कोई जरुरत नहीं है।

बता दें कि गिर्ट नीदरलैंड के दक्षिण पंथी गुट के नेता माने जाते हैं। वो इससे पहले कुरान पर प्रतिबंध लगाने की बात को लेकर भी चर्चा में आ चुके हैं।

इस पड़ताल से साफ है कि पैगंबर मोहम्मद पर नुपुर शर्मा के विवादित बयान को लेकर दुनिया के 34 देशों ने अभी तक न नूपुर का बचाव किया है और न ही भारत का समर्थन किया है।
 

खबरें और भी हैं...