comScore

Fake News: अब स्कूल की किताबों पर भी जीएसटी लगाएगी केंद्र सरकार, जानें क्या वायरल दावे का सच

Fake News: अब स्कूल की किताबों पर भी जीएसटी लगाएगी केंद्र सरकार, जानें क्या वायरल दावे का सच

डिजिटल डेस्क। सोशल मीडिया पर शिक्षा से जोड़कर एक दावा किया जा रहा है। इस दावे में कहा जा रहा है कि, अब केंद्र सरकार ने स्कूल की किताबों पर भी टैक्स लगा दिया है। वहीं भारत स्कूल की किताबों पर टैक्स लगाने वाला दुनिया का पहला देश भी बन गया है।

किसने किया शेयर?
कई ट्विटर और फेसबुक यूजर ने भी पोस्ट कर यही दावा किया है। 

क्या है सच?
भास्कर हिंदी की टीम ने पड़ताल में पाया कि, सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा गलत है। इंटरनेट पर हमें ऐसी कोई खबर नहीं मिली है, जिससे पुष्टि होती हो कि, केंद्र सरकार ने स्कूल की किताबों पर भी टैक्स लगा दिया है। फाइनेंस और टैक्स से जुड़ी विश्वसनीय जानकारी देने वाले वेबसाइट्स पर हमने जीएसटी के स्लैब की सूची चेक की। वस्तुओं के हिसाब से 5 अलग-अलग स्लैब हैं। लेकिन, किसी भी स्लैब में (किताब) पर लगने वाले टैक्स का जिक्र नहीं है।

पड़ताल के दौरान कुछ मीडिया रिपोर्ट्स हमारे सामने आईं। जिनसे पता चलता है कि स्कूली किताबें तो दूर, किसी भी तरह की किताब पर भारत में जीएसटी या कोई अन्य टैक्स नहीं लगता। केंद्र सरकार के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पीआईबी फैक्ट चेक ने भी ट्वीट कर इस दावे को फेक बताया है। पीआईबी ने लिखा, सोशल मीडिया पर यह दावा किया जा रहा कि केंद्र सरकार ने स्कूली किताबों पर टैक्स लगा दिया है। यह दावा फर्जी है, स्कूली टेक्स्ट बुक्स पर कोई टैक्स नहीं है।

निष्कर्ष : सोशल मीडिया पर किया जा रहा दावा गलत है। केंद्र सरकार ने स्कूल की किताबों पर कोई टैक्स नहीं लगाया है। 


 

कमेंट करें
xbiQ1