फैक्ट चैक: कांवड़ यात्रा के दौरान हुई फौजी की मौत की घटना का नहीं है ये वीडियो, गलत दावे के साथ किया जा रहा शेयर 

July 31st, 2022

डिजिटल डेस्क, भोपाल। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। वीडियो में एक डीजे के ऊपर चढ़े एक युवक को कई लोग लात-घूसों से पीट रहे हैं। इस वीडियो को शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है यह वीडियो रुड़की का है जहां भारतीय आर्मी के एक जवान की मौत कांवड़ियों से हुए झगड़े के दौरान हुई थी। बता दें कि हाल ही में उत्तराखंड के रुड़की में हरियाणा और यूपी से आए कावड़ियों के बीच झगड़ा हो गया था। इस झगड़े में कार्तिक बलियान नाम के आर्मी ऑफिसर की मौत हो गई थी। 

क्या है वायरल वीडियो में?

वायरल वीडियो में एक डीजे नजर आ रहा है। जिसमें ऊपर लड़के एक लड़के पर कुछ लोग जमकर लात-घूसे बरसा रहे हैं। कुछ लोग इस पर डंडे भी बरसा रहे हैं। मार खाने वाला युवक अपने-आप को बचाने की भरसक कोशिश कर रहा है लेकिन वह सफल नहीं हो पा रहा है।  इसके साथ ही कुछ लोग इस पूरे वाक्ये को नीचे खड़े होकर अपने कैमरे को शूट कर रहे हैं। 

सोशल मीडियो यूजर्स रुड़की घटना का बताकर कर रहे शेयर

 

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर वीडियो को शेयर करते हुए यूजर्स दावा कर रहे हैं कि यह वीडियो रुड़की में हुई झड़प का है जिसमें सेना के जवान की मौत हुई थी।

 एक फेसबुक यूजर ने वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा,“रुड़की के मंगलौर इलाके में यूपी-हरियाणा के कांवड़ियों में संघर्ष। सिर में डंडा लगने से मुजफ्फरनगर में सिसौली के कांवड़िए कार्तिक बालियान की मौत। वह सेना में फौजी भी था. डाक कांवड़ आगे निकालने को लेकर विवाद हुआ था।” 

पड़ताल - हमने वीडियो की सच्चाई जानने के लिए इसके बारे में जानकारी एकत्रित की। हमने कीवर्ड की सहायता से सर्च किया। सर्च में हमें पंजाब केसरी के यू्ट्यूब अकाउंट पर एक वीडियो रिपोर्ट मिली। इस रिपोर्ट के मुताबिक ये घटना यूपी के मेरठ में हुई थी। वहां एक डीजे कॉम्पिटिशन में कांवड़ियों की बीच झगड़ा हो गया था।

 

इसके साथ ही हमें हिन्दुस्तान की रिपोर्ट मिली। 26 जुलाई को प्रकाशित इस रिपोर्ट में कहा गया है, मेरठ के खरगौदा में लोहिया फार्म हाउस के पास शिविर संचालकों और कांवड़ियों के बीच तेज आवाज के साथ डीजे बजाने की प्रतियोगिता हुई। इस दौरान दो पक्षों में मारपीट होने लगी। इसके बाद पुलिस वहां आई और तब जाकर मामला शांत हुआ। 

हमारी पड़ताल में सामने आया कि सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो जिस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है वह गलत है। असल में यह वीडियो यूपी के मेरठ का है जिसे रुड़की का बताकर शेयर किया जा रहा है। 


 

खबरें और भी हैं...