comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

स्मार्ट टीवी: Nokia ने लॉन्च किया 65 इंच 4K LED स्मार्ट टीवी, इसमें है DTS ट्रू सराउंड टेक्नोलॉजी

स्मार्ट टीवी: Nokia ने लॉन्च किया 65 इंच 4K LED स्मार्ट टीवी, इसमें है DTS ट्रू सराउंड टेक्नोलॉजी

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। HMD (एचएमडी) ग्लोबल के स्वामित्व वाली Nokia (नोकिया) कंपनी ने भारतीय बाजार में नया स्मार्ट टीवी लॉन्च कर दिया है। यह एक 65 इंच 4K LED टीवी है, जिसे कंपनी की आधिकारिक वेबसाइट और ई-कॉमर्स साइट Flipkart से खरीदा जा सकेगा। इस टीवी में DTS ट्रू सराउंड दिया गया है। कंपनी का कहना है कि यह टीवी शानदार ऑडियो क्वालिटी देने में सक्षम है। बात करें कीमत की तो Nokia Smart TV 65-inch स्मार्ट टीवी को भारतीय बाजार में 64,999 रुपए कीमत में उतारा गया है। 

इस स्मार्ट टीवी की पहली सेल 6 अगस्त को आयोजित की जाएगी। Flipkart पर यह नो कोस्ट EMI ऑप्शन के साथ उपलब्ध होगी। वहीं ऑफर्स की बात करें तो स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक के क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने पर ग्राहकों को 10 प्रतिशत का इंस्टैंट डिस्काउंट मिलेगा। इसके अलावा RuPay डेबिट कार्ड से पहली ट्रांजेक्शन पर 30 रुपए का डिस्काउंट दिया जा रहा है। 

Microsoft ने लॉन्च किया 'Family Safety' ऐप, अब पैरेंट्स बच्चों पर ऐसे रख सकेंगे नजर

Nokia Smart TV 65-inch स्पेसिफिकेशन्स और फीचर्स
Nokia Smart TV 65-inch स्मार्ट टीवी में UHD डिस्प्ले दिया गया है, जो कि 2840x2160 पिक्ग्सल का रेजॉल्यूशन देता है। यह 178 डिग्री व्यूइंग एंगल के साथ आता है। कनेक्टिविटी के लिए इस टीवी में वाई-फाई, ब्लूटूथ 5.0, एचडीएमआई, यूएसबी 3.0 और एथरनेट पोर्ट जैसे फीचर्स दिए गए हैं।

इस स्मार्ट टीवी में 2.25GB रैम और 16GB इंटरनल मेमोरी दी गई है। यह स्मार्ट टीवी Android TV 9.0 Pie ओएस पर काम करता है। इसके अलावा यह टीवी एंड्राइड 9.0 और ऊपर के सभी वर्जन को सपोर्ट करने में सक्षम है। इसमें 1GHz प्योरएक्स क्वाड-कोर कोर्टेक्स A53 प्रोसेसर दिया गया है।

Google Pixel 4A के 3 अगस्त को लॉन्च होने की संभावना

इसमें यूजर्स को इन-बिल्ट क्रोमकास्ट फीचर दिया गया है, जिसमें आपको Google Play Store, Google Assistant सपोर्ट मिलेगा। अन्य फीचर्स की बात करें तो इस स्मार्ट टीवी में डॉल्बी विजन और इंटेलीजेंट डिमिंग उपलब्ध है। इस टीवी में 24W स्पीकर हैं और इसमें DTS ट्रू सराउंड दिया गया हैं।

कमेंट करें
tyvAE
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।