comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

Samsung Galaxy Fold की प्री-बुकिंग शुरु: मिल रहे ये शानदार ऑफर

Samsung Galaxy Fold की प्री-बुकिंग शुरु: मिल रहे ये शानदार ऑफर

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। स्मार्टफोन की दुनिया में मुड़ने वाले फोन की पहली झलक इस साल के शुरुआत में देखने को मिली थी। यह फोन दक्षिण कोरियाई कंपनी Samsung की ओर से पेश किया गया था। जो कि हाल ही में भारत में लॉन्च कर दिया गया है। आज 04 अक्टूबर से Samsung Galaxy Fold की प्री-बुकिंग भी शुरु कर दी गई है।

Samsung Galaxy Fold की प्री-बुकिंग सैमसंग के ऑनलाइन स्टोर पर जाकर कराई जा सकती है। इसके अलावा ऑनलाइन ई-स्टोर, सैमसंग एक्सक्लूसिव स्टोर और 35 शहरों में मौजूद 315 रिटेल आउटलेट्स में भी इसकी प्री-बुकिंद करवाई जा सकती है।

कीमत/ कलर
बता दें कि भारत में Samsung Galaxy Fold स्मार्टफोन को 1,64,999 रुपए की कीमत में लॉन्च किया है। यह स्मार्टफोन 20 अक्टूबर से बिक्री के लिए उपलब्ध होगा। इस फोन को Cosmos Black color ऑप्शन के साथ खरीदा जा सकता है। 

ऑफर
​कंपनी इस फोन के साथ वायरलैस गैलेक्सी बड्स ईयरफोन फ्री दे रही है। इसके अलावा कंपनी गैलेक्सी प्रीमियर सर्विस, वन-ऑन-वन असिस्टेंस, एक साल की ऐक्सिडेंटल डैमेज प्रटेक्शन और एक बार के लिए फ्री स्क्रीन रिप्लेसमेंट ऑफर कर रही है।  

स्पेसिफिकेशन
Samsung Galaxy Fold में 7.3 इंच का इन्फिनिटी-वी फ्लेक्स डिस्प्ले दी गई है, जो कि 1536x2152 रेज्यूलेशन देती है। वहीं, फोल्ड करने पर फोन में छोटा 4.6 इंच की सुपर AMOLED डिस्प्ले दी गई है, जो कि 840x1960 का रेज्यूलेशन देती है। इस स्मार्टफोन में लगाए गए दोनों डिस्प्ले एक साथ काम करते हैं।

फोटोग्राफी के लिए फोन में ट्रिपल रियर कैमरा सेटअप दिया गया है। इसमें 16 मेगापिक्सल के प्राइमरी सेंसर और 12 मेगापिक्सल का सेकंडरी सेंसर दिया गया है। जबकि फोन का तीसरा कैमरा 12 मेगापिक्सल का है जो टर्शिअरी सेंसर है। 

इसके अलावा सेल्फी और वीडियोकॉलिंग के लिए इस फोन में डुअल कैमरा सेटअप दिया गया है। इसमें 10 मेगापिक्सल का पहला सेंसर और 8 मेगापिक्स का दूसरा सेंसर शामिल है। 

यह फोन एक ही वेरिएंट में उपलब्ध है, जिसमें 12GB रैम और 512GB की इंटरनल स्टोरेज दी गई है। यह फोन माइक्रो एसडी कार्ड सपोर्ट नहीं करता। फोन ऐंड्रॉयड 9 पाई पर बेस्ड सैमसंग के One UI पर काम करता है। इसमें ऑक्टा-कोर एसओसी प्रोसेसर दिया गया है। 
पावर देने के लिए इस फोन में 4,380 mAh की बैटरी दी गई है। 

कमेंट करें
Au3IR
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।