comScore

IIPKL 2019 : पुणे प्राइड ने तेलुगू बुल्स को 42-28 से हराया, जोन-ए में टॉप पर

IIPKL 2019 : पुणे प्राइड ने तेलुगू बुल्स को 42-28 से हराया, जोन-ए में टॉप पर

हाईलाइट

  • पुणे प्राइड ने तेलुगू बुल्स को 42-28 से हराया
  • पुणे प्राइड जोन-ए में 10 अंकों के साथ टॉप पर

डिजिटल डेस्क, मैसूर। इंडो-इंटरनेशनल प्रीमियर कबड्डी लीग (IIPKL) के पहले सीजन में शनिवार को पुणे प्राइड ने तेलुगू बुल्स को 42-28 से हराया। इस जीत के साथ पुणे प्राइड जोन-ए में 10 प्वाइंट के साथ टॉप पर बने हुए है। अमरजीत सिंह प्लेयर ऑफ द मैच और रेडर ऑफ द मैच चुने गए। जिथेंदर यादव डिफेंडर ऑफ द मैच और वेंकटेशा बेस्ट प्रोडक्टिव रेडर रहे। लीग में पुणे के अब तक 6 मैच हुए हैं। जिसमें से पुणे ने 5 मैच जीते और एक मैच में उसे हार का सामना करना पड़ा। वहीं तेलुगू बुल्स जोन-बी में 2 प्वाइंट के साथ चौथे नंबर पर है। तेलुगू ने अब तक अपने 6 मैचों में से केवल एक जीता है और 5 में उसे हार का सामना करना पड़ा है। 

मैच में पुणे ने शुरू से ही तेलुगू पर दबाव बनाए रखा। तेलुगू ने वापसी के काफी प्रयास किए, लेकिन वह सफल नहीं हो पाई। मैच के पहले मिनट में दोनों टीमों का स्करो 1-1 रहा। इसके थोड़ी देर बाद ही पुणे ने स्कोर 5-3 कर दिया। पुणे ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखा और स्कोर 8-4 कर दिया। पहले क्वार्टर की समाप्ती पर पुणे ने 12-6 की बढ़त बनाई। 

दूसरे क्वार्टर में भी पुणे ने बुल्स पर दबाव बनाए रखा। क्वार्टर की शुरुआत में ही पुणे ने एक प्वाइंट हासिल किया और स्कोर 13-7 कर दिया। पुणे ने शानदार प्रदर्शन जारी रखा और दूसरे क्वार्टर की समाप्ती तक स्कोर 25-11 कर दिया।

तीसरे क्वार्टर में पुणे ने बुल्स को अपने दमदार डिफेंस से रोके रखा और सिर्फ 8 प्वाइंट ही लेने दिए। हालांकि, उसके रेडर कुछ खास नहीं पाए और सिर्फ 7 प्वाइंट जुटा पाए। तीसरे क्वार्टर की समाप्ती पर स्कोर 33-18 रहा। चौथे क्वार्टर में पुणे ने बिना किसी परेशानी के अपने स्कोर में इजाफा किया और लगातार प्वाइंट हासिल किए। पुणे ने क्वार्टर में 9 प्वाइंट जुटाए। वहीं बुल्स ने 10 प्वाइंट हासिल किए पर हार से नहीं बच पाई। 
 

कमेंट करें
Z3oLM
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।