comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

छत्तीसगढ़ में गोबर निर्मित दीयों से रोशन होगी दीपावली

October 15th, 2019 10:00 IST
 छत्तीसगढ़ में गोबर निर्मित दीयों से रोशन होगी दीपावली

रायपुर, 15 अक्टूबर (आईएएनएस)। सनातन धर्म में किसी भी धार्मिक आयोजन से पहले स्थल को गोबर से लेप कर पवित्र किया जाता है। मान्यता है कि गाय का गोबर सबसे पवित्र होता है। अब छत्तीसगढ़ की महिलाएं गोबर से दीए बना रही हैं, जो राज्य में ही नहीं देश के विभिन्न हिस्सों में दीपावली को रोशन करेंगे।

राजधानी रायपुर से लगभग 45 किलोमीटर दूर स्थित है बनचरौदा गांव। यहां गोठान बनाई गई है। यहां पहुंचने पर गाएं विचरण करती, चारा-पानी ग्रहण करती नजर आती हैं तो दूसरी ओर महिलाओं का समूह आकर्षक रंग-बिरंगे दीयों को आकार दे रहा होता हैं। ये दीए मिट्टी के नहीं, बल्कि गाय के गोबर के होते हैं।

जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी गौरव सिंह बताते हैं, बनचरौदा की गोठान में स्वसहायता समूह की 46 महिलाएं गोबर से दीए और अन्य सामग्री बनाने का काम कर रही हैं। इन दिनों दीयों का निर्माण जोरों पर है, क्योंकि दीपावली करीब है। छत्तीसगढ़ ही नहीं, दिल्ली सहित विभिन्न स्थानों से गोबर के दीयों का आर्डर आया हुआ है, आर्डर इतना है कि उसे पूरा कर पाना आसान नहीं है।

सिंह बताते हैं, अप्रैल से जुलाई तक गोठान के निर्माण काम हुआ। इस काम में मनरेगा के तहत और स्वसहायता समूह के तहत महिलाओं ने काम किया। उसके बाद से अगस्त माह से गोबर के उत्पादों, उदाहरण के तौर पर दीए, स्वास्तिक, ओम, हवन कुंड आदि को बनाने का अभियान शुरू किया गया। गोबर में उड़द की दाल, इमली की लकड़ी आदि का पाउडर मिलाकर आकर देने योग्य मिश्रण तैयार किया जाता है, जिसे सांचों के जरिए दीयों का रूप दिया जाता है। उसके बाद उन्हें सुखाया जाता है और फिर उन पर विभिन्न रंगों के जरिए आकर्षक स्वरूप दिया जाता है।

महिलाएं बताती हैं, तीन तरह के दीए बनाए जा रहे हैं। एक दीया ऐसा है, जो कई बार उपयोग में लाया जा सकता है, दूसरे तरह के वे दीए हैं, जिनका लगातार उपयोग करने के साथ क्षरण होता जाता है, और अन्य ऐसे दीए हैं, जो एक बार में ही जल जाते हैं। एक बार में जल जाने वाले दीयों में हवन और धूप सामग्री का उपयोग किया जाता है।

जिला पंचायत के कार्यपालन अधिकारी सिंह बताते हैं, दीपावली को ध्यान में रखकर बड़ी तादाद में दीयों का निर्माण किया जा रहा है। एक दीए की बिक्री कीमत दो रुपये है। ये दीए पर्यावरण की दृष्टि भी अच्छे हैं, क्योंकि इनके जलने के बाद मिट्टी में डाल दिया जाए तो वे खाद में बदल जाएंगे।

वह बताते हैं कि इस काम में लगीं महिलाएं एक दीए से एक से सवा रुपये कमाती हैं। इस तरह एक दिन में ढाई सौ से तीन सौ दीए बनाकर तीन सौ रुपये से ज्यादा कमा लेती हैं। एक दीए की लागत मुश्किल से 75 पैसे आती है। गोबर गोठान में ही मिल जाता है।

सरपंच कृष्ण कुमार साहू का कहना है, गोठान बनने से आवारा मवेशियों की समस्या पर अंकुश लगा है। फसलों को नुकसान होने का खतरा कम हुआ है। गोबर से कलाकृतियां बनाने से जहां महिलाओं को रोजगार मिला है, वहीं पर्यावरण मित्र कृतियों का निर्माण हो रहा है।

छत्तीसगढ़ में आवारा जानवर बड़ी समस्या बने हुए हैं, उनको आशियाने और खानपान की सुविधा के लिए गोठान बनाए गए हैं। यह वह स्थान है, जहां मवेशी चर सकते हैं, विचरण कर सकते हैं, उसे अन्य चिकित्सा सुविधाएं भी हासिल होती हैं। एक अनुमान के मुताबिक, छत्तीसगढ़ में एक करोड़ 28 लाख से ज्यादा जानवर हैं, इनमें 30 लाख आवारा हैं। जिसके कारण खेतों की फसलों को नुकसान होने के साथ सड़कों पर हादसे भी होना आम रहा है। इन जानवरों, खास कर गायों के लिए गोठान बनाए गए हैं। राज्य में अब तक दो हजार गोठान बन चुके हैं। इन गोठानों के लिए ग्राम पंचायतों ने 30 हजार एकड़ जमीन दी हैं।

गोठान में चरवाहा गांव के पालतू व आवारा मवेशियों, जिनकी संख्या लगभग छह सौ है, को लेकर आता है। यहां दिन भर मवेशी रहते हैं, पालतू मवेशी तो शाम को घरों को चले जाते हैं, मगर आवारा मवेशी गोठान में ही रहते हैं। इनके गोबर से ही ये उत्पाद तैयार किए जा रहे हैं। गोठान के बनने से जहां फसलें भी सुरक्षित रहती हैं तो वहीं मवेशियों को भी दाना-पानी मिल जाता है। यहां बीमार मवेशियों का इलाज भी किया जाता है, वहीं शाम होने के बाद उन्हें घर के लिए छोड़ दिया जाता है।

कमेंट करें
fwYJi
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।