comScore

बाघिन के पेट में कैसे पहुंची कीटनाशी दवा, जांच में जुटे अधिकारी

October 19th, 2019 18:00 IST
 बाघिन के पेट में कैसे पहुंची कीटनाशी दवा, जांच में जुटे अधिकारी

हाईलाइट

  • बाघिन के पेट में कैसे पहुंची कीटनाशी दवा, जांच में जुटे अधिकारी

नई दिल्ली, 19 अक्टूबर (आईएएनएस)। फसलों पर छिड़काव में इस्तेमाल होने वाली कीटनाशक दवा ने एक बाघिन को मौत की नींद सुला दी। इस बात का खुलासा बाघिन के शव की पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुई है। सवाल अब यह है कि बाघिन के पेट में आखिर कीटनाशक दवा कहां से आई।

यह वाकया उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी जिले का है, जहां बीते जुलाई महीने में नहर से एक बाघिन का शव बरामद किया गया था। उस समय बाघिन की मौत का कुछ भी कारण स्पष्ट नहीं हुआ, क्योंकि उसके शरीर पर किसी प्रकार की चोट के निशान नहीं थे। वन विभाग के अधिकारियों ने बाघिन के शरीर को पोस्टमार्टम के लिए बरेली स्थित पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान भेज दिया था। उस समय पोस्टमार्टम के बाद बाघिन का विसेरा सुरक्षित रख लिया गया था, जिसकी रिपोर्ट हाल ही में आई है।

दक्षिण खीरी वन संभाग के अधिकारी (डीएफओ) समीर कुमार ने आईएएनएस को बताया कि रिपोर्ट में बाघिन के विसेरा में ऑरगेनोफॉस्फेट ग्रुप के इन्सेक्टिसाइड्स के अंश पाए गए हैं।

लेकिन बाघिन के पेट में यह कीटनाशक दवा कैसे पहुंची? इस सवाल पर उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि बहरहाल इस बात की जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि बाघिन की उम्र तकरीबन पांच-छह साल रही होगी।

इससे पहले आईवीआरआई के निदेशक आर.के. सिंह से इस संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने की पुष्टि करते हुए कहा कि रिपोर्ट संबंधित संभाग के वन अधिकारी को सौंप दी गई है और इस संबंध में वन अधिकारी ही ज्यादा बता सकते हैं।

बाघिन की मौत के संबंध में चर्चा यह है कि कीटनाशक दवा युक्त घास चाटने के कारण उसकी मौत हुई है, लेकिन समीर कुमार ने बताया कि इसकी संभावना कम है, क्योंकि पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बाघिन के पेट से सूअर का मांस खाने के अवशेष मिले हैं।

एक कहावत है कि बाघ भूखा रह लेगा, लेकिन खास नहीं खाएगा। मगर, कुछ लोग यह बताते हैं कि भोजन नहीं पचने पर बाघ घास चबाता है। हालांकि वन विभाग के अधिकारी ने इस बात की पुष्टि नहीं की।

एक अनुमान यह लगाया जा रहा है कि लखीमपुर खीरी इलाके में किसान गन्ने की फसल पर कीटनाशक दवाओं का छिड़काव काफी करते हैं, जिसे सूअर ने चाट लिया होगा और उस सूअर को खाने से बाघिन की मौत हो गई होगी।

कमेंट करें
yTWBp
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।