दैनिक भास्कर हिंदी: अब धोती-कुर्ता पहन पुलिस करेगी काशी विश्वनाथ मंदिर की सुरक्षा

March 26th, 2018

डिजिटल डेस्क, वाराणसी। वाराणसी के काशी विश्‍वनाथ मंदिर में सुरक्षाकर्मी अब धोती-कुर्ते में नजर आ रहें हैं। सोमवार से सुरक्षाकर्मियों के लिए यह ड्रेस कोड लागू कर दिया गया है। हालांकि यह ड्रेस कोड सिर्फ मंदिर के गर्भगृह में तैनात सुरक्षाकर्मियों के लिए रखा गया है। गर्भगृह के बाहर तैनात रहने वाले सुरक्षाकर्मियों पर यह ड्रेस कोड लागू नहीं किया गया है।

भागलपुर हिंसा : पिता अश्विनी चौबे ने FIR को बताया 'कचरा', बेटा बोला- नहीं करूंगा सरेंडर

एसपी सुरक्षा शैलेन्द्र कुमार राय ने बताया है कि सोमवार से व्यवस्था लागू कर दी गई है। उन्होंने बताया, 'लंबे समय से यह ड्रेस कोड लागू करने की प्रक्रिया चल रही थी, जिसे आज तत्‍काल प्रभाव से लागू कर दिया गया।' उन्होंने बताया, 'मंदिर के गर्भगृह में 6-6 जवानों की ड्यूटी 6-6 घंटे की शिफ्ट में लगती है। इस तरह कुल 18 जवानों को पुलिस विभाग की ओर से धोती-कुर्ता उपलब्‍ध कराया गया है।' एसपी ने यह भी बताया कि पुलिस प्रशासन के इस फैसले से श्रद्धालु एवं गर्भगृह में ड्यूटी करने वाले सुरक्षाकर्मी भी बेहद खुश हैं। काशी विश्‍वनाथ मंदिर न्‍यास के सदस्‍य प्रफेसर चंद्रमौलि उपाध्‍याय ने भी पुलिस प्रशासन के इस निर्णय की सराहना की है।

लिंगायतों के मठ से अमित शाह का कर्नाटक दौरा शुरू, कल दलितों के मठ जाएंगे

बता दें कि पिछले दिनों बनारस आयी पीएमओ की टीम के सामने मंदिर प्रबंधन ने यह मुद्दा उठाया था। यह बात रखी गई थी कि गर्भगृह में तैनात पुलिसकर्मियों को भी पुजारियों की तरह धोती-कुर्ता में रखा जाए। श्रद्धालुओं और पुजारियों का कहना था कि गर्भगृह में वर्दी पहनकर रहने की व्यवस्था आस्था एवं परम्परा के अनुरूप नहीं है। इसलिए इसे बदला जाना चाहिए। इस पर पीएमओ के अफसरों ने इस पर बात आगे बढ़ाने का आश्वासन दिया था। यह भी बता दें कि वाराणसी के इस प्रसिद्ध काशी विश्वनाथ मंदिर की सुरक्षा के लिए करीब 2000 पुलिस, पीएसी और सीआरपीएफ के जवान तैनात रहते हैं।