comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद ने 1978 में चोरी हुईं मूर्तियां तमिलनाडु प्रशासन को सौंपीं

November 18th, 2020 20:02 IST
 केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद ने 1978 में चोरी हुईं मूर्तियां तमिलनाडु प्रशासन को सौंपीं

हाईलाइट

  • केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद ने 1978 में चोरी हुईं मूर्तियां तमिलनाडु प्रशासन को सौंपीं

नई दिल्ली, 18 नवंबर (आईएएनएस)। लंदन स्थित भारतीय उच्चायोग को अगस्त 2019 में इंडिया प्राइड प्रोजेक्ट से सूचना मिली थी कि 4 प्राचीन मूर्तियां भगवान (राम, सीता, लक्ष्मण और हनुमान) तमिलनाडु के एक मंदिर से चुराई गई थीं और भारत से बाहर तस्करी कर ले जाई गई थीं। ये मूर्तियां बुधवार को तमिलनाडु प्रशासन को सौंप दी गईं।

ठीक 42 साल पहले 24 नवंबर, 1978 को तमिलनाडु के श्रीराजगोपाल मंदिर से ये मूर्तियां चुराई गई थीं और इन्हें लंदन में बेच दिया गया था। कांसे की बनीं ये मूर्तियां फिलहाल भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के पास थीं, जिन्हें बुधवार को तमिलनाडु प्रशासन को सौंप दिया गया।

भगवान की मूर्तियों को सौंपने के लिए केंद्रीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री प्रह्लाद सिंह पटेल खुद एएसआई मुख्यालय पहुंचे, जहां से उन्होंने इन मूर्तियों को निकलवाकर तमिलनाडु प्रशासन को सौंप दिया।

इन मूर्तियों में भगवान राम की मूर्ति की लंबाई 90.5 सेंटीमीटर है। भगवती सीता की मूर्ति 74.5 सेंटीमीटर और लक्ष्मण की मूर्ति 78 सेंटीमीटर लंबी है।

इन तीनों धातु मूर्तियों का फोटो डॉक्यूमेंटेशन जून 1958 में तमिलनाडु के नागपट्टनम जिले में आनंदमंगलम के श्रीराजगोपाल विष्णु मंदिर में किया गया था। यह मंदिर विजयनगर काल के दौरान बनाया गया था। इस मंदिर में 4 मूर्तियां- राम, सीता, लक्ष्मण और हनुमान की शामिल थीं। ये मूर्तियां कम से कम 1998 तक इसी मंदिर में थीं और बाद में चोरी हो गईं।

आइडल विंग ने उचित जांच करने के बाद लंदन स्थित भारतीय उच्चयोग से एक विस्तृत रिपोर्ट भेजी थी। रिपोर्ट के अनुसार, श्रीराजगोपाल विष्णु मंदिर में चोरी 24 नवंबर, 1978 को हुई थी। वहीं अपराधी भी पकड़े गए थे। हालांकि मूर्तियां बरामद नहीं हो सकी थीं। फोटो के आधार पर इन मूर्तियों की जांच की गई तो पाया गया कि ये सभी मूर्तियां वही हैं, जो श्रीराजगोपाल विष्णु मंदिर से चुराई गई थीं।

मूर्तियों के वर्तमान स्वामी ने जब यह पाया कि मूर्तियां चोरी की गई हैं, तो उन्होंने इसे लंदन मेट्रोपोलिटन पुलिस को सौंप दिया। इन मूर्तियों को मेट्रोपॉलिटन पुलिस ने 15 सितंबर 2020 को भारतीय उच्चायोग, लंदन को सौंप दिया। उच्चायोग ने ये मूर्तियां वापस करने का फैसला किया।

पिछले कुछ वर्षो में भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ने एमईए और भारत की कानून प्रवर्तन एजेंसियों और डीआरआई के साथ मिलकर (सन् 1976 से लगभग 53 पुरावशेषों) वहीं सन् 2014 से लगभग 40 पुरावशेषों की भारत वापसी को संभव बनाया है। साथ ही सांस्कृतिक विरासत की रक्षा करने और चोरी-तस्करी हुईं प्राचीन वस्तुओं की जांच और बहाली के क्षेत्रमें सक्रिय भूमिका निभा रहा है।

एमएसके/एसजीके

कमेंट करें
6pbAq
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।