दैनिक भास्कर हिंदी: गोरखपुर के बाद अब फर्रुखाबाद में 49 बच्चों की मौत

September 5th, 2017

डिजिटल डेस्क,फर्रुखाबाद। यूपी के फर्रुखाबाद में 21 जुलाई से 20 अगस्त के बीच सरकारी अस्पताल राम मनोहर लोहिया में 49 नवजात बच्चों की मौत हो गई है। रिपोर्ट में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की मौत होने का पता चलने पर महकमे में हड़कंप मच गया है। इस मामले ने एक बार फिर गोरखपुर के बीआरडी हादसे की पुनरावृत्ति कर दी है। मामले के सामने आते ही अस्पताल के अधिकारियों अपना पल्ला झाड़ते हुए कहा कि नवजात बच्चों का वजन बहुत कम था, साथ ही उनकी हालत बेहद गंभीर थी। बच्चों के परिजनों ने उन्हें अस्पताल लाने में देरी कर दी, जिसके कारण बच्चों की मौत हुई है। 

आपकों बता दे कि अस्पताल में इस 1 महीने के दौरान SNCU वार्ड में 211 बच्चे एडमिट हुए थे जिसमें से 30 बच्चों की मौत हो गई है। साथ 461 डिलीवरी के केस आए थे जिसमें से 19 बच्चों की मौत डिलीवरी के समय या अस्पताल में प्रसव के तुरंत बाद मृत्यु हो गई।

जिलाधिकारी ने 30 अगस्त को वार्ड का निरीक्षण कर इस मामले में जानकारी ली थे, उन्होंने बताया कि 21 जुलाई से 20 अगस्त के बीच 49 बच्चोों की मौत बीमारी के चलते हुई लेकिन परिजनों ने आरोप लगाया था कि ऑक्सीजन की कमी के कारण और इलाज में लापरवाही के कारण बच्चों की मौत हुई थी।

दो अधिकारियों पर मामला दर्ज

डीएम के आदेश पर सिटी मजिस्ट्रेट, एसडीएम सदर, तहसीलदार सदर की टीम ने पूरे मामले की जांच की, जिला प्रशासन की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि बच्चों की मौत लापरवाही के कारण हुई है। कल देर रात इस मामले में अस्पताल के चीफ मैडिकल ऑफिसर (सीएमओ) और चीफ मैडिकल सुप्रीटेंडेंनट (सीएमएस) के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

आपको याद दिला दें कि 10 अगस्त को यूपी के गोरखपुर में भी इसी तरह का मामला सामने आया था। यहां 10 से 12 अगस्त के बीच ऑक्सीजन की कमी से 36 बच्चों की मौत हो गई थी। जिसके बाद योगी सरकार पर कई सवाल खड़े हुए थे। हालांकि इस मामले में कई लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

 

खबरें और भी हैं...