comScore
Dainik Bhaskar Hindi

मुंबई में CSMT स्टेशन के पास गिरा फुटओवर ब्रिज, 6 की मौत, 35 घायल

BhaskarHindi.com | Last Modified - March 15th, 2019 13:25 IST

2.9k
2
1

News Highlights

  • मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस प्लेटफॉर्म (सीएसएमटी) स्टेशन के पास गुरुवार को फुटओवर ब्रिज गिर गया।
  • ब्रिज गिरने से एक व्यक्ति की मौत हो गई वहीं 23 लोगों के घायल होने की खबर है।
  • कई वाहन भी इस हादसे में क्षतिग्रस्त हुए हैं। हादसे के बाद राहत और बचाव दल मौके पर पहुंच गया।


डिजिटल डेस्क, मुंबई। मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनस प्लेटफॉर्म (सीएसएमटी) स्टेशन के पास गुरुवार को फुटओवर ब्रिज का एक हिस्सा गिर गया। ब्रिज गिरने से तीन महिलाओं समेत 6 लोगों की मौत हो गई है। वहीं इस हादसे में 35 लोग घायल हुए है। कई वाहन भी इस हादसे में क्षतिग्रस्त हुए हैं। हादसे के तुरंत बाद राहत और बचाव दल मौके पर पहुंच गया और घायल लोगों को मलबे से निकाल कर स्थानीय अस्पताल पहुंचाया। घायलों में से कई लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है। इस हादसे की वजह से ट्रैफिक भी प्रभावित हुआ है। यात्रियों को वैकल्पिक रूट से जाने को कहा गया है। बता दें कि यह फुटओवर ब्रिज 40 साल पुराना है और सीएसएमटी स्टेशन से टाइम्स ऑफ इंडिया की बिल्डिंग को जोड़ता है। प्रशासन की तरफ से हेल्पलाइन नंबर 022-23694721, 022-22694727, 022-22704403, 022-61234000, 1916 जारी किए गए हैं।

पुलिस अधिकारियों ने कहा कि घटना शाम करीब 7.20 बजे की है जब रोड पर पुल का एक बड़ा हिस्सा गिर गया। हादसे के बाद ब्रिज के मलबे में कई लोग दब गए। जिस वक्त ये हादसा हुआ उस वक्त पुल के नीचे बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे। हादसे में 6 लोगों की मौत हो गई। 6 मे से पांच मृतकों की पहचान अपूर्वा प्रभु (35 वर्ष), रंजना तांबे (40 वर्ष), सारिका कुलकर्णी (35 वर्ष), जाहिद सिराज खान (32 वर्ष) और तपेंद्र सिंह (35 वर्ष) के रूप में हुई है। अपूर्वा और रंजना जीटी अस्पताल की नर्स थीं, जो कि शाम के वक्त अपनी शिफ्ट पूरी कर घर वापस जा रही थीं। वहीं घायलों को सेंट जॉर्ज हॉस्पिटल और गोकुलदास तेजपाल अस्पताल ले जाया गया है। इन घायलों में 4-5 लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है और इन्हें गहन चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है। हादसे के बाद मुआवजे का भी ऐलान किया है। मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए और घायलों को 50 हजार रुपये का मुआवजा दिया जाएगा।

एक चश्मदीद ने कहा कि जिस वक्त ब्रिज का हिस्सा गिरा उस वक्त पास के चौराहे पर ट्रैफिक का रेड सिग्नल था। अगर रेड सिग्नल ना होता तो मृतकों की संख्या कहीं ज्यादा हो सकती थी। 

इस हादसे को लेकर पीएम मोदी ने कहा, ‘गहरा दुख है कि मुंबई में फुट ओवरब्रिज दुर्घटना में कई लोगों की जान चली गई। घायलों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त करता हूं। मैं घायलों के जल्द ठीक होने की कामना करता हूं। महाराष्ट्र सरकार हर संभव मदद मुहैया करवा रही है।’

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, 'मुंबई में एक फुट ओवरब्रिज के ढहने का गहरा दुख है। मेरी संवेदनाएं उन परिवारों के साथ हैं जिन्होंने इस दुर्घटना में अपने प्रियजनों को खो दिया। मैं घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की प्रार्थना करता हूं।'

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मुंबई में रेलवे फुट ओवर ब्रिज के ढहने की घटना पर दुख जताया है। राहुल गांधी ने फेसबुक पोस्ट में कहा, 'मुंबई फुटओवर ब्रिज हादसे की ख़बर से मुझे बेहद दुःख हुआ है। मृतकों के परिजनों के प्रति मैं अपनी गहरी शोक और संवेदना व्यक्त करता हूं।' उन्होंने कहा, ‘जो घायल हैं उन्हें जल्द से जल्द राहत मिले मेरी ये प्रार्थना है।'

महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस ने दुख जताते हुए कहा, 'मुंबई में टीओआई बिल्डिंग के पास फुट ओवर ब्रिज की घटना के बारे में सुनकर बहुत दुख हुआ।' उन्होंने कहा कि बीएमसी आयुक्त और मुंबई पुलिस अधिकारियों से मैंने बात कर समन्वय बना तेजी से राहत के प्रयासों को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने मुआवजे का भी ऐलान किया है।मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए का मुआवजा और घायलों को 50 हजार रुपये के मुआवजे का सीएम ने ऐलान किया है। सीएम ने कहा 'मैंने उच्च स्तरीय जांच के आदेश दिए हैं। पुल का एक स्ट्रकच्रल ऑडिट पहले किया जा चुका था और इसे ठीक पाया गया था। उसके बाद भी अगर ऐसी कोई घटना हुई है, तो यह ऑडिट पर सवाल उठाता है। पूछताछ की जाएगी। सख्त कार्रवाई की जाएगी।'

महाराष्ट्र के मिनिस्टर ऑफ स्टेट फॉर होम (रूरल) डॉ. रंजीत पाटिल ने कहा, फुटओवर ब्रिज का ढहना एक दुखद घटना है। सीएम ने तुरंत बीएमसी कमिश्नर और रेलवे मंत्रालय के साथ बैठक के लिए बुलाया है। घायलों की सुरक्षा अत्यंत महत्वपूर्ण है और यह युद्ध स्तर पर किया जा रहा है।

हादसे के बाद महाराष्ट सरकार में मंत्री विनोद तावड़े मौके पर पहुंचे और स्थिति का जायजा लिया। उन्होंने कहा कि 'ये ब्रिज किस कारण गिरा इसकी इंक्वायरी की जा रही है। ब्रिज खराब स्थिति में नहीं था, इसके लिए मामूली मरम्मत की आवश्यकता थी, जिसका काम भी चल रहा था। काम पूरा होने तक इसे बंद क्यों नहीं किया गया, इसकी भी जांच की जाएगी। रेलवे और BMC इसकी जांच करेगी। उन्होंने कहा, घायलों का पूरा इलाज शासन की तरफ से कराया जा रहा है।

बीजेपी विधायक राज पुरोहित ने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है, ऐसा नहीं होना चाहिए था। उन्होंने कहा, 'ऑडिटिंग में इस पुल को सर्टिफिकेट देने वाले इंजीनियर के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए, उसे गिरफ्तार किया जाना चाहिए। उसे सजा मिलनी चाहिए।'

कांग्रेस नेता मिलिंद देवड़ा ने कहा, ​​यदि सरकार आम मुंबईकरों को संदेश देना चाहती है कि ऐसा दोबारा नहीं होगा, तो उन्हें तुरंत आईपीसी की धारा 302 के तहत एक एफआईआर दर्ज करनी चाहिए।

 
 

 

समाचार पर अपनी प्रतिक्रिया यहाँ दें l

ये भी देखें
Survey

app-download